स्वच्छता ही सेवा पखवाड़े के तहत हज़ारों बच्चों ने ली प्लास्टिक मुक्त देश बनाने की शपथ

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन, जल शक्ति मंत्रालय, भारत सरकार व राज्य परियोजना प्रबंधन ग्रुप, नमामि गंगे, उत्तराखंड के सयुक्त तत्वावधान में जिला गंगा समिति हरिद्वार के सहयोग से नगर निगम हरिद्वार द्वारा स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम का हरिद्वार में आयोजन किया गया। स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम का शुभारम्भ हरिद्वार आन्दमयी सेवा संदन की छात्राओं ने नगर में स्वच्छता रैली निकाल कर किया। रैली को नगर आयुक्त श्री उदय सिंह राना जी ने हरी झण्डी दिखा कर रवाना किया। स्वच्छता रैली नगर के मुख्य मार्गाें से होती हुई पन्ना लाल भल्ला इंटर कालेज में सम्पन्न हुई।

कालेज के प्रागण में माननीय कैबिनेट मंत्री श्री मदन कौषिक जी ने दीप प्रज्ज्वलित कर स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर माननीय मंत्री श्री मदन कौषिक जी ने बच्चों को सम्बोधित करते हुए कहा कि स्वच्छता का दायित्व हम सभी का है और हमें सरकार की योजनाओं के साथ-साथ स्वयं भी स्वच्छता को लेकर जागरूक होना चाहिए। उन्होंने सिंगल यूज प्लाॅस्टिक के प्रयोग से होने वाली हानियों पर भी प्रकाष डाला और इसका प्रयोग न करने के लिए सभी को संकल्प लेने का आह्वान किया। उन्होंने प्रांगण में उपस्थित छात्र-छात्राओं, अभिभावकों, अध्यापकों, स्वयं सेवी संस्थाओं, नगर निगम के कर्मचारियों, अधिकारियों के स्वच्छता ही सेवा के तहत सिंगल यूज प्लाॅस्टिक व पॉलीथीन प्रयोग प्रतिबन्धीत किये जाने हेतु शपथ दिलाई।

कार्यक्रम में स्कूल छात्र-छात्राओं व स्वयं सेवी संस्थाओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम, नुक्कड़ नाटक, वाद विवाद प्रतियोगिता आदि कार्यक्रमों का आयोजन कर जनजागरुकता संदेश के साथ पॉलीथीन प्रयोग प्रतिबन्धीत किये जाने का संदेष दिया गया। कार्यक्रम में नगर आयुक्त श्री उदय सिंह राना जी ने पाॅलीथीन के प्रयोग को प्रतिबन्धीत किये जाने को लेकर सभी आम लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि वह स्वयं भी और साथ में अन्य लोगों को भी इस ओर जागृत करने का काम करे।

पन्नालाल भल्ला इंटर कालेज में चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें कक्षा-7 से 12 तक के बच्चों ने प्रतिभाग किया। श्री शिखर पालिवाल प्रांत सह संयोजक गंगा विचार मंच ने बताया की प्रतियोगिता में चयनित छात्र-छात्राओं को राज्य परियोजना प्रबन्धन ग्रूप द्वारा पुरस्कृत किया जायेगा।लोगों में जागरुकता लाने के प्रयास हर तरह से किए जा रहे हैं ।

इस अवसर पर श्री ओपी गोनियाल प्रधानाचार्य पन्ना भल्ला इंटर कालेज, श्रीमती प्रधानाचार्य आन्दमयी सेवा संदन हरिद्वार, श्री अनिल शर्मा जी उपप्रधानाचार्य पन्नालाल भल्ला इंटर कालेज, श्री एसपी सिंह एनएसएस जिला समन्वयक हरिद्वार, श्री विकास तिवारी, श्री नरेश षर्मा, श्री शिखर पालिवाल प्रांत सह संयोजक गंगा विचार मंच, श्रीमति मधु भाटीया, तन्मय शर्मा, जितेन्द्र चैहान, राहुल गुप्ता, अभिनव, दिव्याषु शर्मा, सीमा चैहान, श्रीमती निधि दिवेद्वी राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन, जल शक्ति मंत्रालय, भारत सरकार, श्री पूरन कापड़ी राज्य परियोजना प्रबन्धन ग्रूप आदि उपस्थित रहे।

बीइंग भगीरथ ने बरसाती नाले में उतरकर की सफ़ाई

बीइंग भगीरथ मिशन के श्रमदानीयों ने निरंतर साप्ताहिक अभियान के तहत गोविंदपुरी से गंगा में जुड़ रहे बरसाती स्त्रोत में पसरी गंदगी को नाले में उतरकर साफ़ किया व गंगा किनारे पुराने घड़ों से सौंदर्यकरण अभियान चलाया ।

अभियान में बीइंग भगीरथ की महिला विंग, बी॰एच॰ई॰एल॰ विंग व हरिद्वार इकाई ने श्रमदान किया।इस अवसर पर महिला विंग से नीरज शर्मा व सीमा चौहान ने बताया की गोविंदपूरी में गंगा में जुड़ रहे बरसाती नाले में काफ़ी मात्रा में गंदगी व्याप्त थी जिसे मिशन के स्वयमसेवीयों ने ख़ुद नाले में उतरकर साफ़ किया है।टीम के सभी गंगा सेवीयों ने सफ़ाई कर घाट पर छोड़े जाने वाले पुराने घड़ों व मटकीयों को पेंट कर व पौधे लगाकर गंगा किनारे सौन्दर्यकरण किया ।

टीम के सदस्य हर्षद व रवि ने कहा की टीम कचरा प्रबंधन व गंगा में डाली जा रही गंदगी को पुनर्चकरण कर उपयोगी वस्तुएँ बनाने पर ज़ोर दे रही है। उन्होने बताया कि संयोजक शिखर पालीवाल के नेत्रत्व में टीम गंगा किनारे छोड़े जाने वाले कपड़ों से दरी व मंदिरों के फूलों से सुगंधित धूप बनाने के सफल प्रयोग कर रही है।तन्मय शमा व अभिनव ने बताया शाम होते ही गंगा किनारे कई ऐसे स्थान हैं जहाँ लोग किसी को ना पाकर घर के कूड़े लाकर डालते हैं यहाँ तक की गंगा किनारे नशा करने वालों की शिकायतें भी समय समय पर आती रहती हैं जिसका जल्द ही समाधान शासन प्रशासन को करना चाहिए।टीम लगातार पिछले कई सालों से साप्ताहिक स्वच्छता अभियान चलाकर हरिद्वार में आने वाले श्रद्धालुओं की जागरूकता के लिए अभियान भी चलाती रहती है।

संयोजक शिखर पालीवाल ने नगर निगम व ज़िला प्रशासन से अपील की है प्रशासन जल्द ही गंगा किनारे अवैध नशा कर रहे तत्वों को चिन्हित कर कार्यवाही करें तथा गोविंदपुरी में गंगा के पास बने कूड़े के स्पॉट का निस्तारण कराएँ । उन्होंने बताया की आगे भी कचरा प्रबंधन की दिशा में और सकारात्मक प्रयोग किए जाएँगे।

सफ़ाई अभियान में हनी सेनी, परीक्षित, इंद्रपाल, अमित, मधु भाटिया, रेखा मालिक,रुचिता, धीरज, शिवम् चौहान, दिव्यांशु, गर्व,आदित्य, जनक सहगल, अरविंद आर्य, सुशांत आदि ने सहयोग किया ।

बीइंग भगीरथ ने किया वर्टिकल गार्डन स्थापित

हरिद्वार, बीइंग भगीरथ की युवा टीम ने रानीपुर भगत सिंह चैक स्थित रेलवे पुलिया मार्ग का सौन्दर्यकरण अभियान जोरो शोरों से चलाया गया। टीम के सदस्यों द्वारा वेस्ट बोतलों में दीवारों पर पौधारोपण अभियान चलाते हुए हरिद्वार को हरा भरा बनाने की मुहिम को आगे बढ़ाया। इस दौरान शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने युवा टीम का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि धर्मनगरी को हराभरा बनाने की यह मुहिम अवश्य ही रंग लाएगी।

रानीपुर रेलवे पुलिया की दीवारों पर वेस्ट बोतलों के सहारे से दीवारों पर पौधरोपण करने से अन्य लोगों को भी जागरूकता मिलेगी। उन्होंने कहा कि धर्मनगरी की भव्यता को बढ़ाने के लिए पौधारोपण अभियान अवश्य चलाया जाना चाहिए। पर्यावरण को संरक्षित रखने का सबसे अच्छा उपाय पौधारोपण है। रेलवे पुलिया से हजारों की संख्या में वाहनों की आवाजाही होती है। दीवारों पर पौधे लगाए जाने से पर्यावरण को भी संतुलित रखा जा सकता है। संयोजक शिखर पालीवाल ने कहा कि वर्टिकल र्गाडन अभियान के तहत हरिद्वार के मुख्य मार्गो पर वेस्ट सामग्री का इस्तेमाल कर पौधारोपण अभियान को चलाया जाएगा।

शहर को प्लास्टिक मुक्त करने में भी यह अभियान अवश्य ही कारगर सिद्ध होगा। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्लास्टिक जनजागरूकता पखवाड़े भी चला रहे हैं। देश भर में प्लास्टिक के इस्तेमाल को लेकर जनजागरूकता अभियान अवश्य ही कारगर सिद्ध होंगे। सड़कों, चैराहों के सौन्दर्यकरण के प्लास्टिक की वन टाईम यूज बोतलों में पौधे लगाकर उनका इस्तेमाल चैराहों व सड़कों के सौन्दर्यकरण में किया जा रहा है।

बीइंग भगीरथ की टीम शहर को सुन्दर बनाने की अपनी मुहिम को मुकाम तक ले जाएगी। पार्को के सौन्दर्यकरण में भी प्लास्टिक की बोतलों का इस्तेमाल किया जा रहा है। महाकुंभ मेले के आयोजन से पूर्व ही शहर को स्वच्छ सुन्दर व प्रदूषण मुक्त कर दिया जाएगा। नीरज पराशर व रूचिता उपाध्याय ने कहा कि आपसी सहभागिता से ही शहर को स्वच्छ सुन्दर बनाया जा सकता है। अधिक से अधिक पौधारोपण अभियान चलाए जाने की आवश्यकता है। वेस्ट प्लास्टिक सामग्री का सही इस्तेमाल कर शहर को सुन्दर बनाया जा सकता है।

सभी को इस अभियान में सहयोग के लिए आगे आना चाहिए। इस अवसर पर शिवम अरोड़ा, जितेंद्र चैहान, हन्नी सैनी, विपिन सैनी, मोहित विश्नोई, राहुल गुप्ता, धीरज भूटानी, कुणाल धवन, अरविन्द आर्य, हितेश चैहान, मधु भाटिया, जनक सहगल, अनीता शर्मा, सिद्धार्थ, भूपेश पाण्डे, कपिल राठौर आदि प्रमुख रूप से शामिल रहे।

आज की आवश्यकता घर में एक नहीं बल्कि दो डस्टबीन : शिखर पालीवाल

नगर निगम व बीइंग भगीरथ शहर को कचरा मुक्त करने को लेकर स्कूल कालेजों के छात्र छात्राओं में जनचेतना अभियान चला रही है। भल्ला इण्टर कालेज में घरों से निकलने वाले गीले व सूखे कूड़े को अलग-अलग डस्टबीन में रखने की अपील की गयी है। नगर निगम के तत्वावधान में इस अभियान को शहर भर में तेजी के साथ चलाया जा रहा है।

संयोजक षिखर पालीवाल ने छात्र-छात्राओं को गीले सूखे कूड़े के प्रबन्ध की जानकारी देते हुए बताया कि सूखा व गीला कूड़ा अलग अलग डिब्बों में रखना चाहिए। गीले कूड़े से जहरीली गैस निकलने की संभावनाएं बनी रहती हैं। सड़कों पर फैले गीले कूड़े से संक्रामक रोग फैलने की संभावनाएं बनी रहती हैं। कचरा प्रबंधन समाज के लिए जरूरी है।

शहर को कूड़ा मुक्त बनाने की यह मुहिम अवष्य ही रंग लाएगी। गीले कूड़े से घर में ही कम्पोस्ट खाद बनायी जा सकती है। खाद बनाने की जानकारियां भी कालेज के छात्र छात्राओं को प्रदान की। षिखर पालीवाल ने बताया कि जिस डिब्बे में कूड़ा फेंका जा रहा है। उस डिब्बे को ढकना भी जरूरी है। सब्जी के छिलके, सड़े, बचे हुए फल सही तरीके से गीले कूड़े के डिब्बे में ही डालें। सभी तरह का कूड़ा एक ही जगह एकत्र ना करें। कार्यक्रम संयोजक मधु भाटिया व कालेज के प्रधानाचार्य ओपी गोनियाल ने कहा कि कूड़े को अलग अलग रखना नितांत जरूरी है।

धर्मनगरी को स्वच्छ सुन्दर बनाने में सभी की सहभागिता होनी चाहिए। आसान तरीकों से कूड़े की समस्या का निदान किया जा सकता है। गीले कूड़े से खाद बनायी जा सकती है। जिसका प्रषिक्षण बीइंग भगीरथ के सदस्य सभी को बताएंगे। उन्होंने कहा कि नगर निगम के सहयोग से शहर को स्वच्छ सुन्दर बनाने की यह मुहिम अवष्य ही सफल होगी। राहुल गुप्ता व नीरज शर्मा ने कहा कि शहर भर में गीले व सूखे कूड़ को लेकर जनचेतना अभियान चलाया जाएगा।

शहर को कूड़ा मुक्त बनाने की यह मुहिम अवष्य ही सफल होगी। इस अवसर पन्ना लाल भल्ला इण्टर कालेज के प्रधानाचार्य ओपी गोनियाल, पर षिवम अरोड़ा, संदीप खन्ना, अमित जांगिड़, जितेंद्र चैहान, षिवम चैहान, पंकज त्यागी, इन्द्रपाल सिंह, तन्मय शर्मा, अक्षय बिष्ट, सीमा चैहान, ओमषरण गुप्ता, भूपेष पाण्डे आदि मौजूद रहे।

Dehradun That Never Fails To Fascinate Every Visitor

Dehradun is a small pleasant valley known for its greenery, breathtaking beauty and mesmerizing weather. It is one place that everyone thinks of visiting once. If you are planning to visit this place then here is a list of few places that is worth visiting.

BUDDHA TEMPLE

Are you one of those who love nature as well as serenity?

Then this is the perfect place for you. Also known as ‘Mindrolling Monastery’, this holy place is 220 feet in height and has five floors in total. Each floor has unique statues of Buddha as well as the embellished paintings that depict the life of Buddha. On reaching the top floor one can perfectly capture the mesmerizing beauty of the place. This place is the centre of attraction for many Buddhist and foreign travelers. Visitors can sit in the well maintained green park and feel the true essence of Buddhism here. This temple also has cafes to serve your delicacies. Not to forget you can also find some unique handicrafts made by the Buddhist people here.

TAPKESHWAR TEMPLE

This historical temple is very famous among devotees and explorers. Situated on the seasonal river Asan, it contains one of the oldest Shivling inside the cave. As the water droplets continuously drop on the Shivling, the name ‘Tapkeshwar Mahadev’, stuck on. The number of temples built around the river easily catches the attention of the visitors. One can soak themselves in the tranquility and enjoy nature at its best.

FOREST RESEARCH INSTITUTE

If you are all about long peaceful walks then FRI is the right place to fulfill your purpose. This historical place is spread over 2000 acres of area. The area has been beautifully maintained. You can witness wide range of trees in the campus. It also offers the visitors a view of the world famous forest museums and botanical gardens that make this place more interesting for the tourists. Its majestic colonial styled building designed in Greek Roman architecture is a national heritage which itself is a thing of honour for Dehradun.

ROBBER’S CAVE

Ever dreamt of a place where you can walk in water surrounded with beautiful caves? Yes, this is the place. This place was the hideout for many dacoits during the British-raj so the Britishers named it as Robber’s cave. It was otherwise known as Gucchupani. A favorite spot for couples and explorers. One can witness waterfalls just beyond the caves. The flowing stream charms visitors. This is the best place to visit during summers in order to get some relief from the scorching heat.

SAHASTRADHARA

A serene and tranquil place covered with wide range of Himalayan vegetation is an ultimate tourist place providing natural water pools to all visitors. These waterfalls add more visual treats for the visitors. Sahastradhara also provides unique airy rides through rope-way to the tourists to the hilltop. One can enjoy the scenic beauty from the top, too. Keeping in mind the large number of visitor, one water amusement park has also been built. Do you still need more reasons to visit it?

SHIKHAR FALLS

One the most-visited waterfalls is famous especially among youngsters. This is an amazing place for trekking and sightseeing. The water pools here are by far the most clear pools you will ever see. You can trek through the water pools. Not to forget, you can find a huge range of butterflies as well as birds that you haven’t seen anywhere else. Also it serves a perfect location for the avid photographers.

GURU RAM RAI GURUDWARA

As the name suggests, this gurudwara attracts a large number of devotees all round the year. But the unique historical interior of this entire place catches the eyes of many historians, architects and storytellers. Also known as ‘Darbar Sahib’, this place was built by Ram Rai in 17th century by 17th guru of Sikhs. A special fair called ‘Jhande ka mela’ takes place every year in his memory where a large number of people gather to seek blessings.

KHALINGA WAR MEMORIAL

It is perhaps the world’s first memorial built by an army to honour their opponents. This fact itself becomes a thing of pride and honour. Britishers built this memorial to pay tribute to their General Gilaspy and Gorkha General Balbhadra Thapa. Gorkhas are still remembered for their valour act and hence one must visit this place if they love history.

RAJPUR

If you are clueless about any specific place to visit then this entire area itself can help. One can also find number of shopping complexes, temples and monasteries in this area. This particular area has number of food corners and lovely cafes at the road side with greenery all the way long. You can sit in these eating joints and enjoy the surroundings at its best.

SHIV MANDIR

The mandir is situated on the hilltop at Kuthalgate. This place catches the attention of all the travelers passing by from Dehradun to Mussorie. One of the ancient temples of the town stood for a special quality of no donation rule. The owner runs a gemstones store and provide all day ‘Langar’ to the visitors as well as devotees. The entire temple can be seen decorated by fresh flowers. Its scenic beauty due to its location adds cherry on the cake and so one must visit this place.

भारी बरसात में भी नहीं रूका बीइंग भगीरथ का अभियान

तेज वर्षा में भी बीइंग भगीरथ की ऊर्जावान टीम ने विष्णु घाट पर वृहद स्तर से सफाई अभियान चलाया। घाट पर फैली गंदगी व मिट्टी के मलबे को हटाया गया। बीइंग भगीरथ के संयोजक शिखर पालीवाल ने बताया कि गंगा किनारे विष्णु घाट के पास काफी समय से गंदगी पसरी हुई थी। जिन कारणों से बाहर से आने वाले श्रद्धालु भक्तों की भी भावनाएं आहत हो रही थी। रविवार को निस्वार्थ सेवा भाव से टीम के सदस्यों ने भारी मात्रा में गंदगी को एकत्र कर स्वच्छता का संदेश दिया।

शिखर पालीवाल ने कहा कि गंगा किनारे बने कुछ ऐसे स्थल हैं जो काफी समय से गंदगी की चपेट में हैं। कुछ असामाजिक तत्व गंगा घाट पर पालीथीन, पन्नियां, बोतलें आदि फेंक देते हैं। जिससे गंदगी को बढ़ावा मिल रहा है। शिखर ने कहा कि ऐसे गंगा घाटों को चिन्हित कर जिला अधिकारी को सूची सौंपी जाएगी। जिससे असामाजिक तत्वों पर रोक लगने के साथ साथ गंदगी से भी मुक्ति मिलेगी। गंगा घाटों पर सुन्दर चित्र व म्यूरल पेंटिंग भी बनायी जाएगी। क्षेत्र के लोग विष्णु घाट के सौन्दर्यकरण की मांग काफी समय से करते चले आ रहे हैं। इन्द्रपाल ने कहा कि विष्णु घाट पर टीम के ऊर्जावान कार्यकर्ताओं ने निस्वार्थ सेवा भाव से घाट पर फैला मैले कुैचेले पदार्थ, पुरानी कांवड़, कपड़े, पाॅलीथीन, पन्निया, प्लास्टिक की बोतलें आदि को हटाया।

आगे भी इस तरह का अभियान अन्य घाटों पर जारी रहेगा। मधु भाटिया ने कहा कि निरंतर सफाई अभियान चलने से अन्य लोगों में भी जागरूकता पैदा हो रही है। क्षेत्र के लोग स्वयं गंगा घाटों की सफाई व्यवस्था में सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने स्थानीय व्यापारियों से भी गंगा घाटों को स्वच्छ सुन्दर बनाए रखने में सहयोग की अपील की। प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवम अरोड़ा ने बताया कि विष्णु घाट को हरा भरा बनाने के प्रयास भी किए जा रहे हैं।

टीम के सदस्यों द्वारा सफाई करने मे बाद घाट पर पौधारोपण अभियान भी चलाया गया। विभिन्न प्रजातियों के 20 पौधे टीम द्वारा घाट पर लगाए गए हैं। विष्णु घाट पर असामाजिक तत्वों के जमावड़े पर रोक लगाने की मांग पुलिस प्रशासन से की जाएगी।

सफाई अभियान में पंकज त्यागी, जितेंद्र चैहान, रूचिता, विपिन सैनी, रेखा मलिक, जनक सहगल, आदित्य भाटिया, संतोष कुमार साहू, नीरज पराशर, दिव्यांशु, सागर, आर्यन, अरविन्द, हिमांशु आदि सहित टीम के दर्जनों सदस्यों शामिल रहे।

A Tour to Haldwani — Uttarakhand

Haldwani is located in Nainital district of Uttarakhand in India with its twin city Kathgodam. Also known as the ‘gateway to Kumaon’, Haldwani is the third largest city in terms of population. Founded in the 19th century, its name was changed to Haldwani.

Places of interest

Haldwani has plenty to offer to tourists. Gaula is one of the most attractive tourist places in the barrage. An ideal place for trekking, camping and sightseeing, Haldwani has now become a picnic spot due to its beautiful beauty and charm. It is situated on the banks of river Gaula, so in the past days this bond was built for the purpose of irrigation. Many tourists visit Kumaon and go to this place. The peace and tranquility of Headquarters Ashram also attracts many tourists to visit this place. There are many beautiful temples and caves in the river Gaula and no one can spend the entire day here without boredom. It is also located on the banks of the river Gaula. This place is an important visit to all tourists.

The Chitrashila Ghat, a vulnerable cremation ground of the Hindus is situated at Ranighat, about 8 km. from Haldwani. The Uttaryani fair is the main attraction here every year on the festival of Makar Sankranti. Located at Pantnagar, a part of Tanda forest is the Sanjay Van. About 23 km. from Haldwani, the Sanjay Van is a beautiful picnic spot of picturesque sights. Bird watching can also be done here. Rare migratory birds can be spotted here.

Chitrashila Ghat, a weak cremation ground of Hindus is located in about 8 km, Ranaghat. Here is the main attraction for the festival of Makar Sankranti from the Haldwani as Uttarayani Fair of Pahadi Mela. Sanjay Van is a part of Tanda Forest, located in Pantnagar. About 23 km from Haldwani, Sanjay Van is a striking picnic spot of pleasing places. Rare Birds can be seen here too, if you love Bird watching.

Haldwani is a popular site for excursions to Sattal around 22 kilometers away. It is a fusion of seven fresh water lakes together. There are beautiful dense oak and pine trees surrounded by lakes. Haldwani has other beautiful lakes and patches of excursions, they are Naukuchiatal, Mukteshwar and Bhimtal, all the lovely places for excursions. English is considered equivalent to Westmoreland of England, this place really value the comparison. Jim Corbett National Park is approximately 55 km. Being Haldwani India’s oldest national park; there are about 448 species of wildlife and plants in this park.

Other important places can be visited, in which there are various large industries, shopping malls and Haldwani stadiums. Anyone can visit this place’s grain, fruit and vegetable market because it is considered the largest of its kind in the whole country.