ई-गवर्नेंस 2019 पर 22वां राष्ट्रीय सम्मेलन शिलांग में होगा आयोजित

यह सम्मेलन सभी तरह की डिजिटल सेवाएं उपलब्ध कराने, समस्याओं के समाधान में अनुभव का आदान-प्रदान करने, जोखिम कम करने, मुद्दों को सुलझाने और सफलता की योजना उपलब्ध कराने के लिए स्थायी ई-गवर्नेंस पहलों को तैयार करने और उन्हें लागू करने के प्रभावी तरीकों के बारे में जानकारी साझा करने के लिए एक मंच उपलब्ध कराता है।

प्रशासनिक सुधार, लोक शिकायत विभाग और इलेक्ट्रॉनिक्स तथा सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा मेघालय सरकार मिलकर 8-9 अगस्त, 2019 को शिलांग में ई-गवर्नेंस 2019 पर 22वें राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन करे रहे हैं। इस सम्मेलन का पूर्वोत्तर क्षेत्र में पहली बार आयोजन किया जा रहा है। यह सम्मेलन सभी तरह की डिजिटल सेवाएं उपलब्ध कराने, समस्याओं के समाधान में अनुभव का आदान-प्रदान करने, जोखिम कम करने, मुद्दों को सुलझाने और सफलता की योजना उपलब्ध कराने के लिए स्थायी ई-गवर्नेंस पहलों को तैयार करने और उन्हें लागू करने के प्रभावी तरीकों के बारे में जानकारी साझा करने के लिए एक मंच उपलब्ध कराता है।

यह घोषणा मेघालय सरकार के मुख्य सचिव श्री पी.एस.थंगखिव, प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग के अतिरिक्त सचिव श्री वी.श्रीनिवास ने आज शिलोंग में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में की। शिलोंग में आयोजित 22वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मेलन नई सरकार के डीएआरपीजी के 100 दिनों की पहल का एक हिस्सा है।

इस सम्मेलन का विषय “डिजिटल इंडिया : सफलता से उत्कृष्टता” है। सम्मेलन के दौरान पूर्ण सत्र में 5 उप-विषयों पर विचार-विमर्श किया जाएगा। ये उप-विषय हैं – इंडिया इंटरप्राइज आर्किटेक्चर (आईएनडीईए), डिजिटल बुनियादीढांचा, वन नेशन – वन प्लेटफॉर्म, पेशेवरों के लिए उभरती प्रौद्योगिकी, सचिवालय सुधार, राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सेवा आपूर्ति आकलन (एनईएसडीए), समावेश और क्षमता निर्माण, नवाचारियों और उद्योगों के साथ तालमेल, सभी तरह की डिजिटल सेवाएं, राज्य सरकारों की सूचना प्रौद्योगिकी पहल जैसे उप-विषयों के बारे में चार सत्रों का आयोजन किया जाएगा।

इस सम्मेलन में भाग लेने के लिए 28 राज्यों और आठ केंद्रशासित प्रदेशों ने अपनी सहमति दे दी है। इस सम्मेलन में 450 से अधिक प्रतिनिधियों के शामिल होने की उम्मीद है। ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में भारत की उपलब्धियों का प्रदर्शन करने के लिए सम्मेलन के दौरान एक प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जाएगा। मेघालय के मुख्य सचिव ने कहा कि इस सम्मेलन का उद्घाटन राज्य के मुख्यमंत्री कॉनराड कोंगकल संगमा और पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास (स्वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायतें और पेंशन, परमाणु ऊर्जा विभाग, अंतरिक्ष विभाग राज्य मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह करेंगे।

मेघालय के सूचना प्रौद्योगिकी, संचार और शहरी मामलों के विभाग के मंत्री श्री हैमलेटसन डोहलिंग उद्घाटन सत्र को संबोधित करेंगे। प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत और पेंशन विभाग के सचिव श्री के.वी.इपन और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय में सचिव श्री अजय प्रकाश साहनी सहित भारत सरकार के वरिष्ठ सचिव भी इस सम्मेलन में शामिल होंगे।

डीएआरपीजी में अतिरिक्त सचिव श्री वी.श्रीनिवास ने कहा कि शिलांग में आयोजित 22वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मेलन इस क्षेत्र में ई-गवर्नेंस पहलों को महत्वपूर्ण गति प्रदान करेगा। इससे पूर्वी क्षेत्र के नागरिक अधिकारियों और उद्योग क्षेत्र के दिग्गजों को सभी तरह की सेवापूर्ति में सुधार लाने के लिए ई-गवर्नेंस में अपने सफल प्रयासों का प्रदर्शन करने का भी अवसर उपलब्ध होगा।