आइए जानें मेथी के फायदे

सर्दी के मौसम आते ही बाजार में खूब सारी हरी सब्जियां दिखाई देने लगती हैं। यह तो सभी जानते है हरी पत्तेदार सब्जियां खाने के क्या-क्या फायदे होते हैं। आपको आज हम मेथी के कुछ स्वास्थ्य फायदे बताएगें जो आपकी सेहत के लिए बहुत लाभदायक साबित होगें। बाजार में इन दिनों मेथी की कोई कमी नहीं है तो आपको मेथी आराम में मिल जाएगी। आपको बता दें कि मेथी के पत्तों में आइरन, कैल्शियम, फास्फोरस तथा प्रोटीन, विटामिन K अत्यधिक मात्रा में पाया जाता है। मेथी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है। आइए जानते है उसके फायदे

  1. मेथी पेट के लिए काफी अच्छी होती है। अगर पेट ठीक रहे तो स्वास्थ्य भी ठीक रहता है और खूबसूरती भी बनी रहती है। मेथी पेट के लिए काफी अच्छी होती है।

  2. हाई बीपी, डायबिटीज, अपच आदि बीमारियों में मेथी के बीज का उपयोग लाभकारी होता है।

  3. मेथी की सब्जी में अदरक, गर्म मसाला रखकर खाने से निम्न रक्तचाप, कब्ज में फायदा होता है।

  4. सुबह-शाम मेथी का रस पीने से डायबिटीज में लाभ होता है।

  5. मेथी में मौजूद पाचक एंजाइम अग्नाशय को अधिक क्रियाशील बना देते हैं। इससे पाचन क्रिया अत्यंत सरल हो जाती है।

  6. हरी मेथी रक्त में शकर को कम कर देती हैं। इस कारण डायबिटीज रोगियों के लिए भी यह फायदेमंद होती है।

  7. प्रतिदिन एक चमच मेथी दाना पाउडर पानी के साथ फांकें। डायबिटीज से दूर रहेंगे।

  8. यदि मेथी के कुछ दाने रोज लिए जाएं तो मानसिक सक्रियता बढ़ती है।

खान-पान से भी रहेगी शरीर में गर्मी

सर्दियों में गर्म रहने के साथ-साथ ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन भी करना चाहिए जो आपकों बाहर से ही नहीं भीतर से गर्म रखें। ऐसे में अगर मौसम ज्यादा सर्द हो तो गर्म कपड़े तो पहने ही साथ में उन खाद्काय पदार्थों को अपने खाने में शामिल करना चाहिए जो आपके शरीर को अंदरूनी रूप से गर्म रख सकता है। तो आइये जानते हैं क्या हैं वह खाद्य पदार्थ जो आपके शरीर को भीतर से गर्म रखेगा!

सर्दियों में गर्म रहने के साथ-साथ ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन भी करना चाहिए जो आपकों बाहर से ही नहीं भीतर से गर्म रखें। ऐसे में अगर मौसम ज्यादा सर्द हो तो गर्म कपड़े तो पहने ही साथ में उन खाद्काय पदार्थों को अपने खाने में शामिल करना चाहिए जो आपके शरीर को अंदरूनी रूप से गर्म रख सकता है। तो आइये जानते हैं क्या हैं वह खाद्य पदार्थ जो आपके शरीर को भीतर से गर्म रखेगा!

अदरक वाली चाय: अपने आपको गर्म रखने का इससे बेहतर और सस्ता उपाय शायद ही कोई हो। अदरक वाली चाय पीने से शरीर का तापमान बढ़ जाता है।

प्याज: प्याज केवल आपके व्यंजनों को स्वादिस्ट बनाने का ही काम नहीं करता बल्कि यह आपके शरीर के तापमान को भी बढ़ाता है। प्याज आपके शरीर में पसीना पैदा करने में काफी मददगार है। प्याज का इस्तेमाल कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को भी दूर रखने में मददगार होता है।

हरी मिर्च: हरी मिर्च खाना कोई पसंद नहीं करता है पर हरी मिर्च खाने से शरीर के भीतर गर्मी पैदा होती है। इसका तीखापन शरीर का तापमान बढ़ाने का काम करता है। ऐसे में सर्दिर्यों में शरीर को गर्म रखने के लिए हरी मिर्च का इस्तेमाल किया जा सकता है।

ड्राई फ्रूट्स: खजूर, मुनक्का और दूसरे ड्राई फ्रूट्स का इस्तेमाल करके आप खुद को इन सर्दियों में सुरक्षित रख सकते हैं। इसके साथ ही ये सेहत को बेहतर बनाने का भी अचूक उपाय है।

हल्दी: सर्दियों के लिहाज से हल्दी एक बेमिसाल औषधि है। ठंड भगाने और आराम दिलाने के लिए हल्दी का इस्तेमाल किया जा सकता है। आप चाहें तो इसे दूध के साथ भी ले सकते हैं।

Here’s why you should add amla to your daily life

Amla is considered a “Divine Fruit” in Hindu Philosophy. It was used to provide effective treatment to various lifestyle diseases in the ancient Indian medicinal practice of Ayurveda.

Amla, also known as the fruit of immortality, is believed to be nature’s boon to revitalize potency, longevity, increasing immunity and strengthening of bones, and aiding weight loss.

Amla, which is packed with a lot of nutrients, Polyphenols, iron, vitamins, and minerals, is available in vegetable markets mainly in winters.
“Whether you eat it, drink it or apply it, the fruit can be immensely beneficial in any form.

Regular consumption of amla can tighten your skin, lighten the complexion, treat acne, make your hair shiny and dandruff- free, and delay the effects of premature aging such as fine lines, wrinkles and dark spots by boosting the regeneration of healthy new cells,” said beauty icon Shahnaz Husain.
It is said that the Vitamin C content in amla is so stable that it can even work as heat resistant. Modern scientific research has revealed that amla contains 1,700 mg of vitamin C per 100g.

Amla is widely grown in India. The berries can be eaten raw or made into pickles and murabba. Amla juice, added to a glass of water, can work wonders.

The oil extracted from the berries has been used since the ancient times to control hair loss and restore health to the hair. Oil of amla is an important ingredient in Ayurvedic treatments, as well as hair oils, hair tonics, shampoos, and conditioners.

Massage with oils containing amla extracts is said to be extremely beneficial, as it stimulates the follicles. It also clears away dandruff flakes, unclogs the pores of the scalp and restores health to the scalp.

Add amla to henna, for healthy hair

It is said to keep graying in check, you can have the juice of one raw amla daily, after adding it to a glass of water.

You can also add amla to henna powder, for healthy, conditioned and glossy hair. If you would like to try it, you can soak a handful of dry amla in about 2 to 3 cups water overnight.

Next morning, strain the water but do not throw the water away. Grind the soaked amla fruits and add henna powder to it. Then, add 4 teaspoons each of lemon juice and coffee, 2 raw eggs, 2 teaspoons oil and enough amla water and mix it into a thick paste.

Keep the paste for two to three hours and then apply it on the hair. Make sure you apply it evenly so that the entire head is covered. Keep it on for at least two hours and then wash it off with plain water.

Home-made amla shampoo

To make home-made shampoo for silky hair, take one handful of dry herbs of reetha, amla, and shikakai and add it to a liter of water and allow it to soak overnight.

The next day, boil the ingredients, till the water reduces to half the quantity. Do not allow it to boil on a high flame, but rather simmer on a very low flame. Let the mixture cool and then strain it with a clean cloth. Use the liquid to wash the hair. The decoction can be kept in the refrigerator for 3 or 4 days.

Home-made amla hair oil

To make amla hair oil, take a handful of dry amla, Grind coarsely, and add it to 100 ml pure coconut oil. Keep it in an airtight glass bottle and keep the bottle in the sun daily for about 15 days. Then strain the oil and store.

Fresh amla juice

Regular intake of amla juice purifies blood and fights toxins, and leaves you with flawlessly radiant skin.

Daily intake of fresh amla juice with honey serves as a great beverage and makes your skin complexion brighter and lighter. It also helps to get rid of acne and pimples. Regular intake of Amla juice delays the effects of premature aging and helps to maintain youthfulness and vitality for a long time.

“Apply amla juice on your face and outer skin with a cotton pad and wash it off after 15 minutes with fresh water. It will help to improve your skin complexion. Close your eyes while doing so,” Husain explained.

Amla juice also boosts the production of collagen cells making your skin radiant, soft, toned and youthful,” Husain added.

Apply amla paste on your face and wash it off once it dries completely. It will help to treat acne and breakouts, making you more beautiful and attractive. Amla is also an excellent cleanser and helps in removing dead cells/pimples from your skin.

(ANI)

रोजाना 10 मिनट का योग आपको रखेगा एक्टिव

योग से न सिर्फ आपका शरीर फिट रहता है बल्कि मस्तिष्‍क भी हमेशा एक्टिव रहता है। रोजाना योग करने आपकी थकान (Fatigue) दूर होती है और सुस्‍ती छूमंतर हो जाती है। योग आपको कई गंभीर बीमारियों से भी बचाता है। योग से कैंसर, हार्ट अटैक, डायबिटीज और कई लाइफस्‍टाइज डिजीज होने की संभावन खत्‍म हो जाती है। नियमित रूप से योगाभ्‍यास करने से व्‍यक्ति में उर्जा का संचार होता है, जिससे दिनभर मोटिवेट रहता है। 

आज हम आपके लिए ऐसे योगासन लेकर आएं हैं जो आपके शरीर को फ्लैक्‍सीबल रखेगा। रीढ़ की हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाने के साथ पेट की चर्बी को भी खत्‍म करने में मदद करेगा। इसके अलावा बीमारियों के होने की संभावना को कम करेगा। आइए, इस लेख उन योग के बारे में विस्‍तार से जानते हैं।

सुप्त मत्स्येन्द्रासन

सुप्त मत्स्येन्द्रासन (Supine Spinal Twist Pose) योगासन बहुत ही आसान योग क्रिया है। इसे आप अपने बेड पर लेटकर भी कर सकते हैं। यह आपकी रीढ़ की हड्डी और मांसपेशियों को मजबूत बनाता है। इसे करने के लिए सबसे पहले जमीन पर लेट जाएं। दोनों हाथों को 180 डिग्री के कोण पर या कंधों की सीख में रखें। अब दायें पैर को घुटनों से मोड़ें और ऊपर उठाएं और बांये घुटने पर टिकाएं। अब सांस छोड़ते हुए दायें कुल्‍हे को उठाते हुए पीठ को बाईं ओर मोड़े और दायें घुटने को जमीन पर नीचे की ओर ले जाएं। इस दौरान आपके दोनों हाथ अपनी जगह पर ही रहने चाहिए। आपके सिर का डायरेक्‍शन बायीं ओर रहेगा। य‍ही क्रिया आपको बाएं पैर के साथ करनी है। इस क्रिया को आप 3 से 5 बार कर सकते हैं। इससे आपकी पीठ, नितंब, रीढ़ और कमर की हड्डियां और मांसपेशियां मजबूत होंगी।

पवनमुक्‍तासन

पवनमुक्‍तासन (Wind Relieving Pose) बहुत ही लाभदायक योग क्रिया है। इसे करना बहुत आसान है। इसे करने के लिए सबसे पहले जमीन पर लेट जाएं, यह सुनिश्चित करें कि आपके पैर एक साथ हैं, और आपके हाथ आपके शरीर के बगल में रखे हैं। एक गहरी सास लो, जैसे ही आप सांस छोड़ते हैं, अपने घुटनों को अपनी छाती की ओर लाएं, और अपनी जांघों को अपने पेट पर दबाएं। अपने हाथों को अपने पैरों के चारों ओर इस तरह जकड़ें जैसे कि आप अपने घुटनों को टिका रहे हों। 

हर बार जब आप सांस छोड़ते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप घुटने पर हाथों की पकड़ को मजबूत करते हैं, और अपनी छाती पर दबाव बढ़ाते हैं। हर बार जब आप सांस लेते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपने पकड़ ढीली कर दी है। इस अवस्‍था में सांस लें और छोड़े। सबसे आखिर में आप अपने माथे को घुटनों में टच कराएं अगर संभव हो तो। इसे आप 1-1 मिनट के लिए 3 से 5 बार कर सकते हैं। इससे आपका पाचनतंत्र बेहतर रहेगा। कब्‍ज की समस्‍या नहीं होगी। रीढ़ को मजबूती मिलेगी।

वक्रासन ं

वक्रासन (Wind Relieving Pose) को बैठकर किया जाता है। इसमें आपका मेरूदंड सीध में होता है। इसे करने के लिए सबसे पहले अपने दोनों पैरों को सामने फैलाकर बैठ जाएं और मेरूदंड को सीध में रखें। अपने दोनों हाथों को आंखों की सीध में सामने हाथ पंजों को जोड़ें सांस अंदर लेते हुए दायीं तरह जाएं और सांस छोड़ते हुए वापस पूर्व की मुद्रा में आएं। अब यही क्रिया बायीं ओर करनी है। इसे आप 3 से 5 बार करें। इसे करने में जल्‍दबाजी न दिखाएं। इस आसन को करने से आपका लिवर, किडनी, पेनक्रियाज पर असर पड़ता है और आपके ये अंग निरोगी होते हैं1 स्पाइनल कार्ड मजबूत होती है। हर्निया के रोगियों को भी इससे लाभ मिलता है।

देर से सोने की आदत बन सकती है मोटापे का कारण: स्‍टडी

आपने भी देखा होगा आजकल युवाओं को देर तक‍ जगने की आदत हो गई है। अधिकतर लोग रात में फोन या मूवी, वीडियो और अन्‍य कई कारणों से देर में सोते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि लड़कियों के लिए देर से सोना उनका सबसे बड़ा दुश्‍मन हो सकता है, जो उनके फिटनेस और बॉडी को मेंटेन रखने के सपने को पानी में मिला सकता है। जी हां, हाल में हुए एक अध्‍ययन में पाया गया कि लड़कियों को देर रात सोना अधिक वजन और मोटापे की समस्‍या से जुड़ा है। 

एल्सी टवेरास, एमडी, एमपीएच, शोध के प्रमुख लेखक का कहना है, ”अच्‍छी और पूरी नींद के साथ समय पर सोना बहुत ही जरूरी है। क्योंकि आपकी स्‍लीप साइकिल यानि आपके सोने और जागने का समय आपकी दैनिक गतिविधियों के हिसाब से होना बहुत जरूरी है।” 

मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल फॉर चिल्ड्रन और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल, यूएसए द्वारा अध्ययन किया किया। जिसमें लगभग 386 लड़कों और 418 लड़कियों को इस अध्‍ययन में शामिल किया जिनकी उम्र 12 से 17 के बीच थी। लगभग पांच दिनों तक देखा और उन्हें एक्टिग्राफ दिया गया था जो उनकी गतिविधि और आराम की अवधि दर्ज करता था। इस डेटा की मदद से प्रत्येक बच्चे के गतिविधियों की जांच की, जो सोशल जेट लैग स्टेटस के साथ-साथ जल्दी उठने या देर से रहने की उनकी प्राथमिकता को इंगित करता है।

शोधकर्ताओं ने अपने मानवजनित माप को भी इकट्ठा किया जो हड्डी, मांसपेशियों और फैट टिश्‍यु को मापता है और उनके शरीर की संरचना को परिभाषित करता है।

शोध के परिणाम 

अध्ययन JAMA बाल रोग में प्रकाशित किया गया था,  जिसमें निष्कर्ष निकाला गया था कि रात को देर से सोने से मोटे तौर पर केवल लड़कियों में मोटापे से जुड़ा है, लड़कों में नहीं। आमतौर पर देर से सोने वाली लड़कियों में औसतन 0.58 सेंटीमीटर कमर का आकार और लगभग 0.16 किलोग्राम शरीर की चर्बी बढ़ी हुई पाई गई।

यह शोध सप्ताह के सभी दिनों युवा लड़कियों में सही नींद के समय की आवश्यकता को दर्शाता है। इसलिए माता-पिता को उनका ध्‍यान रखना चाहिए और उन्हें समय पर सोने और समय पर जागने में मदद करनी चाहिए।

“अध्ययन मोटापे के जोखिम को प्रभावित करने में सोने के समय के महत्व का समर्थन करता है और अभिभावको कों अपने बच्चों के सोने के कार्यक्रम और उनके जागने के समय के साथ-साथ शाम को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और कैफीन के उपयोग को सीमित करके उनकी नींद में सुधार के लिए प्रोत्साहित करना है।

‘Smelling lemon makes you feel thinner’

Did you know that lemons can not only help you get over a hangover but can also make you feel slimmer. Yes, a new study has established that olfactory and auditory stimuli might change how we perceive our body!
For example, people tend to feel thinner and lighter when exposed to the smell of lemon, while they feel heavier and more corpulent when they smell vanilla.

This is one of the results of the investigation recorded in the article ‘As Light As Your Scent: Effects of Smell and Sound on Body Image Perception’, which explores the relation between smell and body shape.

The findings were presented at the meeting IFIP Conference on Human-Computer Interaction.

The research team has demonstrated that the image we have of our own body changes depending on the stimuli we encounter, such as olfactory. Exposure to different smells can make us feel slimmer or more corpulent.
Another sense that influences this is hearing. Through a device adapted to a pair of shoes, developed by the Universidad Carlos III de Madrid in 2015 in collaboration with University College London and the University of London’s School of Advanced Study, researchers have analysed how our perception of our body changes when the frequency spectrum of steps taken during physical activity was modified in real-time.

“By increasing high frequencies, people feel lighter, happier, walk in a more active way and as a result, they find it easier to exercise,” explains Ana Tajadura-Jimenez, a lecturer in the Computer Science and Engineering Department at the UC3M and one of the authors of both investigations.

This technology, based on audio stimulus, that was used successfully both in 2017 to treat people with chronic pain and in 2019 to promote physical activity, is combined with olfactory stimuli in the current investigation to show that both senses combined have a large influence over the perception we have of our body image.

(ANI)

सुबह-सुबह गुनगुना नींबू पानी हैं फायदों का भंडार

सुबह उठते ही अगर आप एक ग्लास गुनगुना नींबू पानी पियें, तो इससे आपके स्वास्थ्य को कई फायदे हो सकते हैं। ये वज़न कम, लिवर मजबूत, त्वचा चमकदार करने के साथ साथ आपका पूरा दिन ताज़ा बना सकता है।

अगर आप अपने आप को पूरी तरह स्वस्थ रखने का कोई रास्ता ढूंढ रहे हैं तो आपकी तलाश एक आसान से तरीके पर खत्म हो सकती है। रोज़ सुबह उठने के बाद सबसे पहले गुनगुना नींबू पानी पीने से स्वास्थ्य को एक नहीं बल्कि कई फायदे पहुंचते हैं। आइये जानते हैं इन्हीं फायदों के बारे में।

इम्यून सिस्टम को सही रखता है – नींबू जैसे खट्टे फलों में विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में होता है, जो सर्दी-जुकाम से लड़ने में मदद करता है। यह इम्यून सिस्टम को सही रखने का काम करता है। इसके साथ ही नींबू में पोटेशियम भी मौजूद होता है, जोकि दिमाग को संतुलित करने का काम करता है और ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित करता है।

वजन घटाने में करता है मदद – जिन लोगों का वजन ज्यादा है, तो उसे कम करने के लिए रोज सुबह गुनगुने पानी में नींबू का रस और शहद मिलाकर पीने से फायदा होता है। ये नुस्खा वजन कम करने वाले लोगों में काफी लोकप्रिय भी है।

सांसों की दुर्गंध हटाएं – नींबू का रस सांसों की दुर्गध को दूर करने का काम करता है। बैक्टेरिया को भी खत्म करता है। जिन लोगों को सांसों की दुर्गंध की समस्या है, उनको बिना देरी किये ये कारगार नुस्खा अपना लेना चाहिए।

लिवर को मज़बूत रखता है – नींबू के रस में सिट्रिक एसिड पाया जाता है, जोकि एन्जाइम्स को सही तरीके से काम करने में मदद करता है। यह लिवर में मौजूद विषैले तत्वों को बाहर करने का काम भी करता है।

त्वचा के लिए फायदेमंद – सुबह-सवेरे उठकर एक ग्लास गुनगुना नींबू पानी आपकी त्वचा को असाधारण ग्लो दे सकता है। इससे झुर्रियां बनने से रुकती हैं और साथ ही, पिंपल्स की समस्या से भी राहत पहुंचती है।

सूजन कम होती है – नींबू में आपके जोड़ों से यूरिक ऐसिड हटाने की क्षमता होती है। यूरिक ऐसिड शरीर में सूजन होने का एक बड़ा कारण है।

दिमाग की शक्ति बढ़ाता है – पोटेशियम और मैग्नीशियम के उच्च स्तर का हमारे दिमाग और तंत्रिका स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। नींबू पानी आपको वह शक्ति दे सकता है जो आपको अवसाद और तनाव का सामना करने के लिए चाहिए होता है। इससे मानसिक स्पष्टता आती है और ध्यान एकाग्र करने में मदद मिलती है। इसलिए ये ड्रिंक स्टूडेंट्स और दिमागी काम अधिक करने वाले लोगों के लिए अमृत से कम नहीं है।

ताज़गी – अलसुबह गुनगुना नींबू पानी आपको एक ताज़गीभरा दिन दे सकता है। इसमें थोड़ा शहद भी मिला लें। ये आपके सुबह के आलस को दूर करते आपको तरोताज़ा कर देगा। तो सोचना क्या, कल से जब सुबह उठें तो एक ग्लास गुनगुना नींबू पानी पियें, और इससे मिलने वाले ढेर सारे फायदे का लाभ उठाएं।