बहुत छोटी सी है ‘ज़िदंगी’

कल मैं दुकान से जल्दी घर चला आया। आम तौर पर रात में 10 बजे के बाद आता हूं, कल 8 बजे ही चला आया।

जन्म का रिश्ता हैं!

By Kavita Gulati एक वृद्ध माँ रात को 11:30 बजे रसोई में बर्तन साफ कर रही है, घर में दो बहुएँ हैं, जो बर्तनों की आवाज से परेशान होकर अपने पतियों को सास को उल्हाना देने को कहती हैं. वो कहती है आपकी माँ को मना करो इतनी रात को बर्तन धोने के लिये हमारी…