अपना आसमान खुद बनाएगी, औरों को भी उड़ने का हौसला देगी

अवी शाम को जल्दी आ जाना आज दिल्ली वाले आ रहे हैं तुझे देखने” माँ ने टोका।

“ठीक है माँ” कहती हुई अवनी निकल गई।

एमबीबीएस करके एक हॉस्पिटल में जॉब कर रही अवनी की शादी के लिए उसके माँ बाप उसी की तरह डॉक्टर लड़का ढूंढ रहे थे, अब डॉक्टर बेटी के लिए ऐसा वैसा दामाद कैसे ढूंढ ले, इस साल अवनी 29 छू रही है।

दिन पे दिन ठाकुर साहब की चिंता बढ़ती जा रही है। अवनी हमेशा से पढ़ने में अच्छी थी, डॉक्टर बनने के बाद तो लड़कों की लाईन लग गई थी, पर हर लड़के पर एक “रेट टैग” था, किसी पर 20 लाख, किसी पर 30 लाख, किसी को क्लिनिक खोल के दे दो, तो कोई तो हॉस्पिटल की उम्मीद लगाये थे।

ठाकुर साहब तो अभी एजुकेशन लोन ही चुका रहे थे, अपनी पहली बेटी की शादी में अच्छा खासा खर्च कर चुके थे। सब तय हो जाता बात वहीं अटक जाती थी। अबकी बार तो अवनी की माँ ने मन्नत भी मानी थी।

तय समय पर दिल्ली वाले आए, अवनी को पसंद किया लेन देन तय किया, 13 लाख में बात पक्की हो गई, अवनी ने कहा “ये क्या किया पापा, कहाँ से आएगा इतना पैसा..? मुझे नहीं करनी शादी, आप लोगो का ख्याल कौन रखेगा…??”

ठाकुर साहब ने बोला “अरे तो इसी शहर में तो हो रख लेना ख्याल”! कहीं ऐसा भी होता है उम्र भर घर नहीं बिठा सकते”।

अवनी जानती थी, उसकी बहन भी तो उसी शहर में थी पर साल में एक बार आ जाये बहुत होता था।

घर में तैयारियाँ शुरू हो गई। 2 महीने में शादी थी, अवनी से न रहा गया तो रोहित से पूछ ही बैठी “मेरे माँ पापा का ध्यान मुझे ही रखना है, सोच के शादी करना”।

रोहित ने बोला “हाँ हाँ क्यों नहीं”। रोहित की बात सुन कर तसल्ली मिल गई अवनी को।

शादी के दिन पास आ रहे थे, और ठाकुर साहब पैसा जुटाने में लगे थे, गाओं की ज़मीन बिकने का नाम नहीं ले रही थी। आखिर शादी वाला दिन भी आ गया, बारात आई रस्मे शुरू हुई और ठाकुर साहब का दिल बैठा जा रहा था, रोहित के पापा से अलग ले जाकर परेशानी जाहिर की, बोला “आप ज़मीन के कागज़ ले लीजिये, मेरे पास 5 लाख से ज्यादा कैश नहीं है, ये ज़मीन पूरे 12 लाख की है”।

बस फिर क्या था रोहित के पापा ने चिल्लाना शुरू किया ” वाह बंजर ज़मीन दे कर लड़का चाहिए, धोखा किसी और को दीजियेगा हमने बहुत देखे ये तमाशे “!!

धीरे धीरे बात सबको पता चली और अवनी तक भी पहुंची, और अवनी ने वही किया जो एक पढ़ी लिखी डॉक्टर बेटी को करना चाहिए, खुद आ कर बोली स्टेज पर “सुनिये पूरी ठाकुर बिरादरी, “मैं ये बारात लौटा रही हूँ इनके बेटे की कीमत नहीं है हमारे पास, सिर्फ 13 लाख में बिकेंगे जिसको खरीद्ना हो अभी खरीद सकता है, और हाँ हमारे यहाँ कोई रिश्ता लेकर ना आए क्योंकि मेरे माँ बाप का मैं ही बेटा हूँ मैं ही बेटी, किसी को ऐतराज हो तो बताये…??”

कुछ लोग अवनी की तारीफ करते, कुछ लोग पागल कहते, कुछ लोग हँसी उड़ाते वापस चले गए”। “ये वो मूक समाज है, जो सिर्फ कहीं शामिल होता है तमाशा देखने के लिए, और खड़ा होता है सिर्फ ऊँगली उठाने के लिए ….वो समाज जिसका डर 29 साल की बेटी के बाप को होता है, वो समाज जिसकी वजह से एक बाप औकात से बाहर दहेज देने को तैयार हो जाता है….वो समाज जिसकी वजह से एक डॉक्टर बेटी भी बोझ लगने लगती है”

क्यों कोई अपनी बेटी को डॉक्टर बनाये, लोन भी चुकाये, और अच्छे दामाद के लिए बिक भी जाए…? क्यों नहीं बेटी बोझ लगे…? पढ़ाओ भी दहेज भी दो..??

सिर्फ फ़ेसबुक डीपी बदल कर “मेरी बेटी मेरा अभिमान” लिखने से बाप के कांधे का बोझ कम होगा क्या..?

जो आज वक़्त के साथ दोगुना हो गया है. पता नहीं क्यों हर वर्ग की लड़की और उसके माँ बाप, ये सब झेलने को मजबूर हैं, दहेज प्रथा का विरोध सिर्फ मौखिक जुमला बन के रह गया है। ज़रूरत है एक सख्त कानून की, और अवनी जैसी बेटिओं की..!! मैं जानती हूँ अवनी अपना आसमान खुद बनाएगी, और औरों को भी उड़ने का हौसला देगी।

The love-life of Jigar Moradabadi

Anisur Rahman

Jigar Moradabadi lived two lives of love and longing. In one, he was liked, loved, and then helplessly separated from his beloved; in another, he was accepted, rejected, and finally reunited with one who happened to be his wife once. One is a stormy narrative of his love with Raushan; another a saga of his bizarre bond with Naseema.

Raushan was a beauteous being par excellence. She came from an enlightened family and was the daughter of a senior government officer from Agra. She was enamoured by the poet Jigar who had made a name for himself and had cast his spell far and wide. As poets are hardly ever expected to be good grooms, Raushan’s parents found it hard to give their daughter’s hand to him. In a state of exasperation, both Raushan and Jigar decided to flee from Agra. Considering the times in which they lived, this was like taking a huge risk at the cost of familial reputation.

As they were set to leave, they thought that only a poet could come to their rescue in this delicate hour. Riaz Khairabadi, another poet of great repute, was their natural choice. When Jigar and Raushan arrived at his place, they were treated respectfully but soon Khiarabadi could sense that there was something scandalous about them. He also came to know that this matter had already reached the police. Fearing that they could be in trouble, he persuaded them to return but they did not like the idea.

They had to find another refuge and this time they moved to Moradabad where they met a benefactor in one S. M. Aqil. Aqil accepted them as his guest. Both Jigar and Raushan felt that they had found an angelic being in him without realising that this person had some ulterior motive and was going to betray them shortly. In fact, Aqil had got enamoured by Raushan and craved for her companionship. When he realised that he would not succeed, he wrote a letter to Raushan’s father saying that his daughter was with him and that he should come and get her back home to avoid the matter taking an ugly turn.

jigar-moradabadi, love, love-story, love-life

A few days later, Raushan’s elder brother arrived from Agra. As Aqil had pre-planned, he called the police and handed over Jigar to them. He also took the credit of bringing a kidnapper to book against whom a warrant had already been issued from Agra. Aqil kept Raushan’s elder brother for a few days as his guest but shocked him with the news that his sister was going to be a mother in a few months. Like a good samaritan, he offered to marry her and save her family’s honour. The helpless brother took him on his words and accepted his proposal. Leaving Raushan behind as Aqil’s wife, he left for Agra.

After completing his term in prison, when Jigar returned, he was shocked to learn that Raushan had been taken away from him in a surreptitious manner. He was totally broke now and grew furious, to say the least. He went berserk, treated himself cruelly, and banged his head against the wall. Although Aqil had succeeded in separating him from Raushan, he had miserably failed in winning her over. Seeing Jigar in such a state, a sympathetic zamindaar took pity and brought him back to his place. He soothed him in all possible ways and brought him to a nautch girl who had earned a name for herself as a musician and singer. She gave Jigar her sweet company and also taught him how to render his ghazals in a mushaira. The credit for turning Jigar into the finest mushaira poet of his time goes to her.

Raushan’s story took a strange turn subsequently. One day, she spoke sympathetically with Aqil. This was a pleasant surprise for him. In a tone of reconciliation she said, “Whatever had to happen; has happened; there’s no going back now. Now let me go to the shrine of Khwaja Moinuddin Chsihti where I shall seek my peace”. Aqil argued much against this proposal but Raushan had decided not be swayed away by his argument any more. Finally, Aqil allowed her to leave for Ajmer but only on the condition that her going to Ajmer would be kept a secret from Jigar. A quiet lady by now, Raushan left for her new destination. Sometime later, it was learnt that she had breathed her last there.

jigar-moradabadi, love, love-story, love-life

Jigar was in a shattered state after his separation from that nautch girl. This is when he is said to have met a major fellow poet, Asghar Gondavia. Gondavi sympathised with him and soon became his friend. He persuaded him to stop drinking and develop a saner view of life. In order to rescue him from his suffering and give a direction to his life, he put him into a marital bond with his wife’s sister, Naseema. Brought into a marital relationship with this highly courteous and responsible lady, Jigar felt blessed but he could not keep away from drinking. Both Gondavi and Naseema tried their best but they could not bring a diehard drinker to become a teetotaler.

When Gondavi realised that his effort to keep Jigar in check had miserably failed, he thought of a new design to reform him. He made him believe that Naseema was not fit for him as they were living in a terrible relationship. He made him divorce her. To meet his plan, he first divorced his own wife and then entered into a marital relationship with Naseema. Jigar was extremely pained at this but he could do little as Gondavi had been his benefactor all through. In spite of the jolt he had received, he did not relinquish his habit of drinking. Gondavi remained deeply concerned as there was no sign of betterment in Jigar’s habit. An ageing Gondavi then made it into an unwritten treaty that when Jigar stops drinking, he should be married to Naseema. This shook Jigar thoroughly. An ashamed Jigar was overwhelmed by Gondavis’ gesture and stopped drinking.

When the appropriate time came, his second nikah with Naseema was solemnised. It is also said that Gondavi had not entered into nikah with Naseema but had only separated her from Jigar to help him see sense. It is corroborated by the fact that Gondavi’s wife stayed with him all through. With his noble acts, Gondavi brought equilibrium in Jigar’s life. Jigar was now a different being—completely reconciled and given to the spiritual ways of life. Incidentally, this was also the hallmark of Gondavi’s poetry.

Rekhta

‘अमर विश्वास’ एक ऐसा नाम जिसे मिले वर्षों बीत गए

मेरी बेटी की शादी थी और मैं कुछ दिनों की छुट्टी ले कर शादी के तमाम इंतजाम को देख रहा था. उस दिन सफर से लौट कर मैं घर आया तो पत्नी ने आ कर एक लिफाफा मुझे पकड़ा दिया. लिफाफा अनजाना था लेकिन प्रेषक का नाम देख कर मुझे एक आश्चर्यमिश्रित जिज्ञासा हुई. ‘अमर विश्वास’ एक ऐसा नाम जिसे मिले मुझे वर्षों बीत गए थे. मैं ने लिफाफा खोला तो उस में 1 लाख डालर का चेक और एक चिट्ठी थी. इतनी बड़ी राशि वह भी मेरे नाम पर. मैं ने जल्दी से चिट्ठी खोली और एक सांस में ही सारा पत्र पढ़ डाला. पत्र किसी परी कथा की तरह मुझे अचंभित कर गया. लिखा था :

आदरणीय सर,

मैं एक छोटी सी भेंट आप को दे रहा हूं. मुझे नहीं लगता कि आप के एहसानों का कर्ज मैं कभी उतार पाऊंगा. ये उपहार मेरी अनदेखी बहन के लिए है. घर पर सभी को मेरा प्रणाम.

आप का, अमर.

मेरी आंखों में वर्षों पुराने दिन सहसा किसी चलचित्र की तरह तैर गए. एक दिन मैं चंडीगढ़ में टहलते हुए एक किताबों की दुकान पर अपनी मनपसंद पत्रिकाएं उलटपलट रहा था कि मेरी नजर बाहर पुस्तकों के एक छोटे से ढेर के पास खड़े एक लड़के पर पड़ी. वह पुस्तक की दुकान में घुसते हर संभ्रांत व्यक्ति से कुछ अनुनयविनय करता और कोई प्रतिक्रिया न मिलने पर वापस अपनी जगह पर जा कर खड़ा हो जाता.

मैं काफी देर तक मूकदर्शक की तरह यह नजारा देखता रहा. पहली नजर में यह फुटपाथ पर दुकान लगाने वालों द्वारा की जाने वाली सामान्य सी व्यवस्था लगी, लेकिन उस लड़के के चेहरे की निराशा सामान्य नहीं थी. वह हर बार नई आशा के साथ अपनी कोशिश करता, फिर वही निराशा. मैं काफी देर तक उसे देखने के बाद अपनी उत्सुकता दबा नहीं पाया और उस लड़के के पास जा कर खड़ा हो गया. वह लड़का कुछ सामान्य सी विज्ञान की पुस्तकें बेच रहा था. मुझे देख कर उस में फिर उम्मीद का संचार हुआ और बड़ी ऊर्जा के साथ उस ने मुझे पुस्तकें दिखानी शुरू कीं.

मैं ने उस लड़के को ध्यान से देखा. साफसुथरा, चेहरे पर आत्मविश्वास लेकिन पहनावा बहुत ही साधारण. ठंड का मौसम था और वह केवल एक हलका सा स्वेटर पहने हुए था. पुस्तकें मेरे किसी काम की नहीं थीं फिर भी मैं ने जैसे किसी सम्मोहन से बंध कर उस से पूछा, ‘बच्चे, ये सारी पुस्तकें कितने की हैं?’

‘आप कितना दे सकते हैं, सर?’

‘अरे, कुछ तुम ने सोचा तो होगा.’

‘आप जो दे देंगे,’ लड़का थोड़ा निराश हो कर बोला.

‘तुम्हें कितना चाहिए?’

उस लड़के ने अब यह समझना शुरू कर दिया कि मैं अपना समय उस के साथ गुजार रहा हूं. ‘5 हजार रुपए,’ वह लड़का कुछ कड़वाहट में बोला. ‘इन पुस्तकों का कोई 500 भी दे दे तो बहुत है,’ मैं उसे दुखी नहीं करना चाहता था फिर भी अनायास मुंह से निकल गया. अब उस लड़के का चेहरा देखने लायक था. जैसे ढेर सारी निराशा किसी ने उस के चेहरे पर उड़ेल दी हो. मुझे अब अपने कहे पर पछतावा हुआ.

मैं ने अपना एक हाथ उस के कंधे पर रखा और उस से सांत्वना भरे शब्दों में फिर पूछा, ‘देखो बेटे, मुझे तुम पुस्तक बेचने वाले तो नहीं लगते, क्या बात है. साफसाफ बताओ कि क्या जरूरत है?’

वह लड़का तब जैसे फूट पड़ा. शायद काफी समय निराशा का उतारचढ़ाव अब उस के बरदाश्त के बाहर था.

‘सर, मैं 10+2 कर चुका हूं. मेरे पिता एक छोटे से रेस्तरां में काम करते हैं. मेरा मेडिकल में चयन हो चुका है. अब उस में प्रवेश के लिए मुझे पैसे की जरूरत है. कुछ तो मेरे पिताजी देने के लिए तैयार हैं, कुछ का इंतजाम वह अभी नहीं कर सकते,’ लड़के ने एक ही सांस में बड़ी अच्छी अंगरेजी में कहा.

‘तुम्हारा नाम क्या है?’ मैं ने मंत्रमुग्ध हो कर पूछा?

‘अमर विश्वास.’ ‘तुम विश्वास हो और दिल छोटा करते हो. कितना पैसा चाहिए?’

‘5 हजार,’ अब की बार उस के स्वर में दीनता थी. ‘अगर मैं तुम्हें यह रकम दे दूं तो क्या मुझे वापस कर पाओगे?

इन पुस्तकों की इतनी कीमत तो है नहीं,’ इस बार मैं ने थोड़ा हंस कर पूछा. ‘सर, आप ने ही तो कहा कि मैं विश्वास हूं. आप मुझ पर विश्वास कर सकते हैं. मैं पिछले 4 दिन से यहां आता हूं, आप पहले आदमी हैं जिस ने इतना पूछा. अगर पैसे का इंतजाम नहीं हो पाया तो मैं भी आप को किसी होटल में कपप्लेटें धोता हुआ मिलूंगा,’ उस के स्वर में अपने भविष्य के डूबने की आशंका थी. उस के स्वर में जाने क्या बात थी जो मेरे जेहन में उस के लिए सहयोग की भावना तैरने लगी. मस्तिष्क उसे एक जालसाज से ज्यादा कुछ मानने को तैयार नहीं था, जबकि दिल में उस की बात को स्वीकार करने का स्वर उठने लगा था. आखिर में दिल जीत गया. मैं ने अपने पर्स से 5 हजार रुपए निकाले, जिन को मैं शेयर मार्किट में निवेश करने की सोच रहा था, उसे पकड़ा दिए. वैसे इतने रुपए तो मेरे लिए भी माने रखते थे, लेकिन न जाने किस मोह ने मुझ से वह पैसे निकलवा लिए.

‘देखो बेटे, मैं नहीं जानता कि तुम्हारी बातों में, तुम्हारी इच्छाशक्ति में कितना दम है, लेकिन मेरा दिल कहता है कि तुम्हारी मदद करनी चाहिए, इसीलिए कर रहा हूं. तुम से 4-5 साल छोटी मेरी बेटी भी है मिनी. सोचूंगा उस के लिए ही कोई खिलौना खरीद लिया,’ मैं ने पैसे अमर की तरफ बढ़ाते हुए कहा.

अमर हतप्रभ था. शायद उसे यकीन नहीं आ रहा था. उस की आंखों में आंसू तैर आए. उस ने मेरे पैर छुए तो आंखों से निकली दो बूंदें मेरे पैरों को चूम गईं. ‘ये पुस्तकें मैं आप की गाड़ी में रख दूं?’

‘कोई जरूरत नहीं. इन्हें तुम अपने पास रखो. यह मेरा कार्ड है, जब भी कोई जरूरत हो तो मुझे बताना.’ वह मूर्ति बन कर खड़ा रहा और मैं ने उस का कंधा थपथपाया, कार स्टार्ट कर आगे बढ़ा दी. कार को चलाते हुए वह घटना मेरे दिमाग में घूम रही थी और मैं अपने खेले जुए के बारे में सोच रहा था, जिस में अनिश्चितता ही ज्यादा थी. कोई दूसरा सुनेगा तो मुझे एक भावुक मूर्ख से ज्यादा कुछ नहीं समझेगा.

अत: मैं ने यह घटना किसी को न बताने का फैसला किया. दिन गुजरते गए. अमर ने अपने मेडिकल में दाखिले की सूचना मुझे एक पत्र के माध्यम से दी. मुझे अपनी मूर्खता में कुछ मानवता नजर आई.

Hum ko junoon kya sikhlatey ho

Wo to kahin hain aur magar dil ke aas paas
Phirti hai koi shai nigaah-e yaar ki tarah

Can one be a romanticist and a classicist at one and the same time? The answer would be in negative. But a few have disproved it. Majrooh Sultanpuri was one such poet who drew upon both and blended them together with distinction. He was a classicist in style and a romanticist in disposition. In addition, he was a humanist — a humanist at core. This is reason enough for Majrooh to remain a lasting reference in the annals of Urdu poetry and its much revered poetic culture.

Main akela hi chala thha jaanib-e-manzil magar
Log saath aate gaye aur karwaan banta gaya

Schooled in traditional Urdu ghazal, Majrooh enjoyed the patronage of Jigar Moradabadi. Jigar took him to then Bombay where he met the Progressive poets and started discovering himself as a poet. He shared their socio-political commitment and soon registered his presence. With a potent voice that showed genuineness of purpose, he soon became one of the prominent followers and sponsors of the Progressive Writers Movement. Bombay saw him maturing through stages of life and art. It also saw him emerging and establishing himself as one of its finest lyricists with many evergreen numbers to his credit.

Dekh zindaan se parey rang-e-chaman josh-e-bahaar
Raqs karna hai to phir paaon ki zanjeer na dekh

Majrooh staunchly believed in Marxist philosophy. He was imprisoned for his leftist leanings but was later disillusioned with the way socialism had chosen to follow in its own bastions like China and Russia. He then struck his own deal with life and poetry and sought his own voice by striking a fine balance between art and ideology. As ghazal, a literary form of imperishable distinction, was being interrogated during the heydays of Progressivism, he chose to nurse it differently. He discovered an individual tone of voice for himself and a hinterland of contemporary concerns and romantic affiliations. He did this unlike any of his contemporaries. This is what distinguished him from all of them.

Jalaa ke mishal-e-jaan hum junoon safaat chale
Jo ghar ko aag lagaye hamaare saath chale

Majrooh made a mark with his early poetry itself. He knew the parametres of the traditional poetics well enough to be able to use it to his benefit and acquire an individual voice in the melee of voices broadly represented by Hasrat, Fani and Jigar. He allowed his ghazal to remain a ghazal in its essential make-up. Put differently, he became the mark of ghazal himself. He added to the splendour of ghazal by drawing upon a diction that blended traditional turns of phrase with modernist twists of idiom. In his own way, he kept the Awadh culture alive in his ghazal; in his own style, he emerged as the Meer, both metaphorically and literally, of Progressive and modernist Urdu ghazal.

Shab-e-intezaar ki kashmakash mein na jaane kaise sehar hui
Kabhi ek charaagh jala diya kabhi ek charaagh bujha diya

Majrooh’s distinction as a film lyricist is equally remarkable. He knew his dramatis personae only too well; he knew how they would express themselves put in a situation. He gave them lilting lines that struck a chord with the listeners. Lyrics like Mere saamne waali khidki mein ek chaand ka tukda rahta hai…, Mujhe dard-e dil ka pata na tha mujhe aap kis liye mil gaye…, Manaa janaab ne pukaara nahin…, Ab kya misaal doon main tumharey shabaab ki…, Chal ri sajni ab kya sochey…, Bandaparwar tham lo jigar…, Chalo sajna jahaan tak ghata chaley have stayed as refrains with us over all these years.

Hum hain mat‘aa-e-kucha-o-bazaar ki tarah
Uthti hai har nigaah khareedaar ki tarah

Decorated with traditional education on the pattern of Dars-e Nizami with emphasis on Arabic, Persian, religious knowledge, and also a degree in Unani medicine, Majrooh chose to start his affair with socialism first, and then pursue a career as a poet and film lyricist. He was rather unhappy about his own reception as a poet. He was painfully aware of the literary establishment and its preferences where he did not figure as he expected. But those who wrote sympathetically on his poetry took adequate cognisance of his worth and assigned him a place that he richly deserved as a true-blue poet of Urdu ghazal.

Mujhe sahl ho gayin manzilein wo hawa ke rukh bhi badal gaye
Tera haath haath mein aa gaya ke chiraagh raah mein jal gaye

A recipient of Ghalib Award, Iqbal Samman, Filmfare Best Lyricist Award, and Dada Sahib Phalke Lifetime Achievement Award, Majrooh Sultanpuri penned a lyric for film Mamta in 1966 — Rahein na rahein hum mahka karegey/Ban ke kali ban ke saba baagh-e-wafaa mein… It appears, in retrospect, as if he wrote this for us to commemorate him when we need him the most.

Rekhta

बड़प्पन – भाई! तू सच में बड़ा हो गया

मायके आई बेटी अपनी मां को बड़ी ही हैरानी से देख रही थी। मां बड़े ही ध्यान से आज के अखबार के मुख पृष्ठ के पास दिन का खाना सजा रही थीं। दाल, रोटी, सब्जी और रायता। फिर झट से फोटो खींचकर व्हाट्सप्प करने लगीं।

बेटी बोली- मां! ये खाना खाने से पहले फोटो लेने का क्या शौक हो गया है आपको?

मां- अरे वो तेरा भाई, बेचारा! इतनी दूर रहकर हॉस्टल का खाना ही खा रहा है। कह रहा था कि आप रोज लंच और डिनर के वक्त अपने खाने की तस्वीर भेज दिया करो और उसे देखकर हॉस्टल का खाना खाने में मुझे आसानी रहती है।

बेटी ने शिकायत की- क्या मां! लाड़-प्यार में आपने भाई को बिगाड़ रखा है। वो कभी बड़ा भी होगा या बस ऐसी फालतू की जिद करने वाला बच्चा ही बना रहेगा।

फिर बेटी ने खाना खाते ही झट से अपने भाई को‌ फोन लगाया- भाई! तूने मां की ये क्या ड्यूटी लगा रखी है? इतनी दूर से भी मां को तकलीफ दिए बिना तेरा दिन‌ पूरा नहीं होता है क्या?

भाई- अरे नहीं दीदी! ऐसा क्यों कह रही हो। मैं क्यों करूंगा मां को परेशान?

बेटी- तो मेरे प्यारे भाई! रोज-रोज मां से ये लंच और डिनर की फोटो क्यों मंगवाते रहते हो? दीदी की शिकायत सुनकर भाई हंस पड़ा।

फिर कुछ गंभीर स्वर में बोला- दीदी! पापा की मौत, तुम्हारी शादी और फिर मेरे हॉस्टल जाने के बाद अब मां अकेली ही तो रह गई हैं। पिछली बार छुट्टियों में जब मैं घर आया था तो कामवाली आंटी ने बताया कि मां किसी-किसी दिन तो कुछ भी नहीं बनाती हैं। चाय के साथ ब्रेड खा लेती हैं या बस खिचड़ी। पूरे दिन अकेले उदास बैठी रहती हैं। तब उन्हें रोज ढंग का खाना खिलवाने का मुझे यही एक तरीका सूझा। मुझे फोटो भेजने के चक्कर में दो टाइम अच्छा खाना बनाती है और फिर खा भी लेती है। और फिर इस व्यस्तता के चलते ज्यादा उदास भी नहीं होती है।

जवाब सुनकर बेटी की आंखें छलक आईं। रूंधे गले से बस इतना ही बोल पाई- भाई! तू सच में बड़ा हो गया है।

राजा बेटा…!!

ऑफिस से लौटकर घर में कदम रखते ही बंटी दौड़कर सुकेश से लिपट गया, “पापा आ गए, पापा मुझे आपको कुछ दिखाना है।” बेटे का उतावलापन देख सुकेश ने थके होने पर भी उसे गोद में उठा लिया।

आगे बढ़ते ही पिताजी के कमरे से जोर-जोर से खांसने की आवाज़ आई।

उसने पत्नी को देखा, “सीमा! बाबूजी डॉक्टर के पास गए थे?”

“नहीं! कैसे जाते! पूरी दोपहर तेज बारिश हो रही थी।” सीमा ने सफाई देनी चाही।

“कैसी बातें कर रही हो? रामू और बिरजू कहाँ है? इन नौकरों को छुट्टी लेने की आदत पड़ गई है।” सुकेश बिफर पड़ा। “घर में दूसरी गाड़ी थी ना! ड्राइवर को बोल दिया था बाबूजी को डॉक्टर के पास ले जाये, वो भी नहीं आया क्या?

ऑफिस में इतना बिज़ी होने पर भी समय निकाल कर मैंने डॉक्टर से अपॉइंटमेंट लिया था, वो भी बेकार हो जायेगा।” इस माहौल का अभ्यस्त बंटी अब भी पापा के पीछे लगा था। “पापा पहले आप मेरा होमवर्क देखिये। टीचर ने ‛राजा बेटा’ टॉपिक पर लिखने को कहा है। मैंने खुद लिखा है। आप चेक कीजिये और हां.. जहां गलत हो करेक्शन भी कर दीजिए।”

बंटी ने कॉपी पापा को थमा दी और खुद सुकेश के गले में बाहें डाल उसकी पीठ पर झूल गया। कॉपी खोलते ही पंक्तियाँ दिखी…

मैं अपने पिताजी का राजा बेटा हूं।

मैं अपने पिताजी को बहुत प्यार करता हूं और वो भी मुझे बहुत प्यार करते हैं।

पिताजी मुझे कंधे पर बैठाकर घुमाते और झूले पर झुलाते हैं।

सुकेश को अपना बचपन याद आने लगा। इसी घर में इसी तरह जब पिताजी उसे कंधे पर बैठाकर पूरे घर में घुमाते, बगीचे में झूले पर झुलाते, उसकी हर ज़रूरत को पूरा करते थे… उसका मन भीग गया। उसने आगे पढ़ना शुरू किया…

मेरे पिताजी मेरा बहुत ध्यान रखते हैं, मैं भी उनका ध्यान रखूंगा।

जब मैं बड़ा हो जाऊंगा उनके लिए ढेर सारे पैसे कमाऊंगा। अब तक उन पंक्तियों में सुकेश के बचपन और जवानी के साथ-साथ उसके पिता की जवानी और बुढ़ापा भी सांस लेने लगी थी। लेकिन अगली पंक्तियों में सुकेश ने अभी-अभी ज़िंदा हुई सांसों को घुटते हुए महसूस किया। आगे लिखा था…

इसके बाद जब पिताजी बूढ़े और बीमार हो जाएंगे तब वे अकेले हो जाएंगे क्योंकि मैं उनके साथ समय नहीं बिता पाऊंगा पर उनके लिए ढेर सारे नौकर रखूंगा और बड़े-बड़े डॉक्टरों के पास इलाज के लिए भेजूंगा।

पिताजी खुश हो जाएंगे और मैं राजा बेटा कहलाऊंगा।

सुकेश गंभीर हो गया। बंटी को गोद से उतारते हुए प्यार से कहा, “बेटा ये अभी भी अधूरी है। ‛राजा बेटा’ ऐसे नहीं होते। मैं तुम्हें बाद में करेक्शन करवाऊंगा। अभी ज़रूरी काम से जाना है।

सीमा.. चाय मत बनाना। अभी अपॉइंटमेंट का समय बचा है, मैं बाबूजी को डॉक्टर के पास ले जा रहा हूं। आकर पियूँगा।”

“चलिये बाबूजी! अभी देर नहीं हुई है। आप अकेले नहीं है, आपका ख़याल रखने के लिए मैं हूं ना!”

सुकेश ने सजल नेत्रों से बाबूजी की ओर देखा… वो मुस्कुरा रहे थे। कितना आसान होता है एक बेटे का ‛राजा बेटा’ बनना। बस एक छोटे से ‛करेक्शन’ की ज़रूरत होती है… सच में !!

वो ट्रेन का सफर….

जैसे ही ट्रेन रवाना होने को हुई, एक औरत और उसका पति एक ट्रंक लिए डिब्बे में घुस पडे़। दरवाजे के पास ही औरत तो बैठ गई पर आदमी चिंतातुर खड़ा था। जानता था कि उसके पास जनरल टिकट है और ये रिज़र्वेशन डिब्बा है।

टीसी को टिकट दिखाते उसने हाथ जोड़ दिए। ” ये जनरल टिकट है।अगले स्टेशन पर जनरल डिब्बे में चले जाना। वरना आठ सौ की रसीद बनेगी।” कह टीसी आगे चला गया।

पति-पत्नी दोनों बेटी के पहले बेटा होने पर उसे देखने जा रहे थे। सेठ ने बड़ी मुश्किल से दो दिन की छुट्टी और सात सौ रुपये एडवांस दिए थे। बीबी व लोहे की पेटी के साथ जनरल बोगी में बहुत कोशिश की पर घुस नहीं पाए थे। लाचार हो स्लिपर क्लास में आ गए थे।”

साहब, बीबी और सामान के साथ जनरल डिब्बे में चढ़ नहीं सकते। हम यहीं कोने में खड़े रहेंगे।बड़ी मेहरबानी होगी।”

टीसी की ओर सौ का नोट बढ़ाते हुए कहा।” सौ में कुछ नहीं होता। आठ सौ निकालो वरना उतर जाओ।”

आठ सौ तो गुड्डो की डिलिवरी में भी नहीं लगे साहब। नाती को देखने जा रहे हैं। गरीब लोग हैं, जाने दो न साहब।” अबकि बार पत्नी ने कहा।”

तो फिर ऐसा करो, चार सौ निकालो। एक की रसीद बना देता हूँ, दोनों बैठे रहो।”

ये लो साहब, रसीद रहने दो। दो सौ रुपये बढ़ाते हुए आदमी बोला। नहीं-नहीं रसीद दो बनानी ही पड़ेगी। ऊपर से आर्डर है। रसीद तो बनेगी ही।

चलो, जल्दी चार सौ निकालो। वरना स्टेशन आ रहा है, उतरकर जनरल बोगी में चले जाओ।” इस बार कुछ डांटते हुए टीसी बोला।

आदमी ने चार सौ रुपए ऐसे दिए मानो अपना कलेजा निकालकर दे रहा हो। दोनों पति-पत्नी उदास रुआंसे ऐसे बैठे थे, मानो नाती के पैदा होने पर नहीं उसके शोक में जा रहे हो। कैसे एडजस्ट करेंगे ये चार सौ रुपए? क्या वापसी की टिकट के लिए समधी से पैसे मांगना होगा? नहीं-नहीं।

आखिर में पति बोला- ” सौ- डेढ़ सौ तो मैं ज्यादा लाया ही था। गुड्डो के घर पैदल ही चलेंगे। शाम को खाना नहीं खायेंगे। दो सौ तो एडजस्ट हो गए। और हाँ, आते वक्त पैसिंजर से आयेंगे। सौ रूपए बचेंगे। एक दिन जरूर ज्यादा लगेगा। सेठ भी चिल्लायेगा। मगर मुन्ने के लिए सब सह लूंगा। मगर फिर भी ये तो तीन सौ ही हुए।”

ऐसा करते हैं, नाना-नानी की तरफ से जो हम सौ-सौ देनेवाले थे न, अब दोनों मिलकर सौ देंगे। हम अलग थोड़े ही हैं। हो गए न चार सौ एडजस्ट” पत्नी के कहा।

मगर मुन्ने के कम करना….” और पति की आँख छलक पड़ी। मन क्यूँ भारी करते हो जी। गुड्डो जब मुन्ना को लेकर घर आयेंगी; तब दो सौ ज्यादा दे देंगे। कहते हुए उसकी आँख भी छलक उठी।

फिर आँख पोंछते हुए बोली- अगर मुझे कहीं मोदीजी मिले तो कहूंगी- इतने पैसों की बुलेट ट्रेन चलाने के बजाय, इतने पैसों से हर ट्रेन में चार-चार जनरल बोगी लगा दो, जिससे न तो हम जैसों को टिकट होते हुए भी जलील होना पड़े और ना ही हमारे मुन्ने के सौ रुपये कम हो।

उसकी आँख फिर छलक पड़ी। अरी पगली, हम गरीब आदमी हैं, हमें वोट देने का तो अधिकार है, पर सलाह देने का नहीं। रो मत