देर से सोने की आदत बन सकती है मोटापे का कारण: स्‍टडी

आपने भी देखा होगा आजकल युवाओं को देर तक‍ जगने की आदत हो गई है। अधिकतर लोग रात में फोन या मूवी, वीडियो और अन्‍य कई कारणों से देर में सोते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि लड़कियों के लिए देर से सोना उनका सबसे बड़ा दुश्‍मन हो सकता है, जो उनके फिटनेस और बॉडी को मेंटेन रखने के सपने को पानी में मिला सकता है। जी हां, हाल में हुए एक अध्‍ययन में पाया गया कि लड़कियों को देर रात सोना अधिक वजन और मोटापे की समस्‍या से जुड़ा है। 

एल्सी टवेरास, एमडी, एमपीएच, शोध के प्रमुख लेखक का कहना है, ”अच्‍छी और पूरी नींद के साथ समय पर सोना बहुत ही जरूरी है। क्योंकि आपकी स्‍लीप साइकिल यानि आपके सोने और जागने का समय आपकी दैनिक गतिविधियों के हिसाब से होना बहुत जरूरी है।” 

मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल फॉर चिल्ड्रन और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल, यूएसए द्वारा अध्ययन किया किया। जिसमें लगभग 386 लड़कों और 418 लड़कियों को इस अध्‍ययन में शामिल किया जिनकी उम्र 12 से 17 के बीच थी। लगभग पांच दिनों तक देखा और उन्हें एक्टिग्राफ दिया गया था जो उनकी गतिविधि और आराम की अवधि दर्ज करता था। इस डेटा की मदद से प्रत्येक बच्चे के गतिविधियों की जांच की, जो सोशल जेट लैग स्टेटस के साथ-साथ जल्दी उठने या देर से रहने की उनकी प्राथमिकता को इंगित करता है।

शोधकर्ताओं ने अपने मानवजनित माप को भी इकट्ठा किया जो हड्डी, मांसपेशियों और फैट टिश्‍यु को मापता है और उनके शरीर की संरचना को परिभाषित करता है।

शोध के परिणाम 

अध्ययन JAMA बाल रोग में प्रकाशित किया गया था,  जिसमें निष्कर्ष निकाला गया था कि रात को देर से सोने से मोटे तौर पर केवल लड़कियों में मोटापे से जुड़ा है, लड़कों में नहीं। आमतौर पर देर से सोने वाली लड़कियों में औसतन 0.58 सेंटीमीटर कमर का आकार और लगभग 0.16 किलोग्राम शरीर की चर्बी बढ़ी हुई पाई गई।

यह शोध सप्ताह के सभी दिनों युवा लड़कियों में सही नींद के समय की आवश्यकता को दर्शाता है। इसलिए माता-पिता को उनका ध्‍यान रखना चाहिए और उन्हें समय पर सोने और समय पर जागने में मदद करनी चाहिए।

“अध्ययन मोटापे के जोखिम को प्रभावित करने में सोने के समय के महत्व का समर्थन करता है और अभिभावको कों अपने बच्चों के सोने के कार्यक्रम और उनके जागने के समय के साथ-साथ शाम को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और कैफीन के उपयोग को सीमित करके उनकी नींद में सुधार के लिए प्रोत्साहित करना है।

Ze-haal-e-miskin makun taghaful durae nainan banae batiyan

AMEER KHUSRAU

ze-hāl-e-miskīñ makun taġhāful durā.e naināñ banā.e batiyāñ
ki tāb-e-hijrāñ nadāram ai jaañ na lehū kaahe lagā.e chhatiyāñ

shabān-e-hijrāñ darāz chuuñ zulf o roz-e-vaslat chuuñ umr-e-kotāh
sakhī piyā ko jo maiñ na dekhūñ to kaise kāTūñ añdherī ratiyāñ

yakāyak az dil do chashm jaadū ba-sad-farebam ba-burd taskīñ
kise paḌī hai jo jā sunāve piyāre pī ko hamārī batiyāñ

chuuñ sham-e-sozāñ chuuñ zarra hairāñ z mehr-e-āñ-mah bagashtam āḳhir
na niiñd naināñ na añg chaināñ na aap aave na bheje patiyāñ

ba-haqq-e-āñ mah ki roz-e-mahshar ba-dād maarā fareb ‘ḳhusrav’
sapīt man ke durā.e rākhūñ jo jaa.e pā.ūñ piyā kī khatiyāñ

rekhta

Basic Rights of an Employee in India

“ONE MACHINE CAN DO THE WORK OF FIFTY ORDINARY MEN. NO MACHINE CAN DO THE WORK OF ONE EXTRAORDINARY MAN.” ELBERT HUBBARD

International Worker’s Day also commonly known as Labourer’s day is celebrated on May 1 of every year across nations to celebrate worker’s contribution towards national and economic development.

In India the first Labour Day was celebrated on 1st of May 1923 by the Labour Kisan Party of Hindustan at Chennai. Though it is not a gazetted holiday in India, many workplaces around the country are shut on this day to mark and respect the contributions made by their employees.

This International Workers Day know what are your rights as an employee. Myriad obligations have been imposed on employer by the government to empower the workforce.

HERE ARE THE 10 MOST IMPORTANT RIGHTS OF AN EMPLOYEE

AN EMPLOYEE RIGHT TO GET PAID LEAVES

Every employee has the right to be granted a Paid Leave by his employer, the provisions of paid leaves as given under the factories act are as follows

Type of LeavePrivileged / EarnedCasualSickMaternity
Quantum per year1 day leave for every 20 days worked in the previous year (Eg. 300 days worked = 15 days leave)NilNilAs per ESI Act OR Maternity Benefits Act
EntitlementOn working 240 days in the first  previous yearNANANA
UtilizationTo apply for leave 15 days prior. Leave not to be availed more than 3 times a yearNANANA
Carry ForwardNot more than 30 daysNANANA

RIGHT TO EQUAL PAY FOR EQUAL WORK

Equal pay for Equal work is a constitutional right and any employer is liable to pay equally to any men, women or temporary staff performing same tasks and undertaking same responsibilities. There can be no discrimination while paying any basis to employees.

RIGHT TO GO ON STRIKES

The employees are provided with the Right to go on a strike without giving a notice, however if the said employee is a public utility employee, then he would be bound by the prohibitions laid down in the Industrial Disputes Act 1947, Section 22(1) lays down certain conditions on Strikes by public utility employees, the conditions includes giving out prior notice to the employer six weeks before going on such strike.

GRATUITY BENEFITS

Gratuity is a lump sum amount paid to employees and it is a statutory benefit given to employees who have rendered continuous service for at least five years. This is to provide social security to employees and an employer cannot forfeit the amount of gratuity.

PROVIDENT FUND

Every employer is liable to maintain an Employee’s Provident Fund (EPF). It s a retirement benefit scheme that’s available to all salaried employees. The law mandates that both the employer and the employee has to contribute 12% of their basic salary.

RIGHT TO GET INSURANCE

Every employee will have the right to be insured by the employer under the Employee State Insurance Act 1948, in case of any kind of injury or miscarriage occurring during the course of employment.

MATERNITY BENEFIT

Every female employee has the right to get 26 weeks of paid maternity. Maternity Benefit Act has been enacted to safeguard the interest of the pregnant women at workplace. Employees are also entitled to one additional month of paid leave in case of complications arising due to pregnancy, delivery, premature birth, miscarriage, medical termination or a tubectomy operation.

RIGHT AGAINST SEXUAL HARASSMENT AT WORKPLACE

The law mandates employers to protect their female employees at workplace against any incidence of sexual harassment as per the Sexual Harassment of Women at Workplace (Prevention) Act, 2013. All offices, hospitals, institutions and other establishments should set up an internal complaint committee to address all the complaints made by women reporting sexual harassment at workplace.  

WORKING HOURS

The Shop and Establishments Act of every state has fixed the maximum no. of working hours 9 hours a day and 48 hours a week. The Shops and Establishment act does not see any difference between managerial and nonmanagerial workers when it comes to regulations relating to working hours. The working hours may be increased up to 54 hours a week upon prior notice to the Inspector, but this increase would be subject to a condition that overtime hours should not be more than 150 in one year.

WRITTEN EMPLOYMENT AGREEMENT

Typically in a private organization, most of the the labour laws are not applicable on employees. They are majorly governed by the terms and conditions of the employment agreement. In such an event, if there is no written employment agreement it may lead to unnecessary disagreements between the employer and the employee.  Therefore, an employment agreement gives both the parties a sense of clarity over their roles, responsibilities, and obligations. Your employer must give you a written agreement before you commence your work. In case, your employer denies, you can rightfully ask for it.

Office Newz

What to do if you lose money to a bank fraud

With the number of bank frauds increasing, you need to be doubly careful about your transactions, especially online ones. According to the Reserve Bank of India’s (RBI) annual report for 2018-19, the number of cases of frauds reported by banks increased by 15% in 2018-19 on a year-on-year basis, with the amount involved rising by 73.8% from ₹41,167 crore in 2017-18 to ₹71,543 crore in 2018-19. Frauds related to advances (90.2%) were predominant while frauds relating to card, internet and deposits constituted only 0.3% of the total value of frauds in 2018-19, amounting to ₹220 crore.

Most fraudsters start with obtaining some basic details like your phone number and name of the bank where you have your savings account or have a credit card from. Next they make calls and try to gather information that is important to make online transfers or payments. “Some of the ways financial fraud can be perpetrated is through phishing or spoofing attacks, malware or spyware, SIM swap (original SIM gets cloned and becomes invalid, and the duplicate can be misused to access the user’s online bank account to transfer funds), credential stuffing (compromising devices and stealing data), man-in-the-middle attacks during online payments or transactions, identity theft, card cloners or readers at ATM machines and as simple as imposters calling up unsuspecting individuals and asking for their personal banking details,” said Arpinder Singh, partner and head, India and emerging markets, forensic and integrity services, Ernst & Young LLP.

We tell you how to avoid falling prey to such frauds and what’s in store if you do get cheated even after your best efforts.

How to avoid it?

Office Newz

अपना आसमान खुद बनाएगी, औरों को भी उड़ने का हौसला देगी

अवी शाम को जल्दी आ जाना आज दिल्ली वाले आ रहे हैं तुझे देखने” माँ ने टोका।

“ठीक है माँ” कहती हुई अवनी निकल गई।

एमबीबीएस करके एक हॉस्पिटल में जॉब कर रही अवनी की शादी के लिए उसके माँ बाप उसी की तरह डॉक्टर लड़का ढूंढ रहे थे, अब डॉक्टर बेटी के लिए ऐसा वैसा दामाद कैसे ढूंढ ले, इस साल अवनी 29 छू रही है।

दिन पे दिन ठाकुर साहब की चिंता बढ़ती जा रही है। अवनी हमेशा से पढ़ने में अच्छी थी, डॉक्टर बनने के बाद तो लड़कों की लाईन लग गई थी, पर हर लड़के पर एक “रेट टैग” था, किसी पर 20 लाख, किसी पर 30 लाख, किसी को क्लिनिक खोल के दे दो, तो कोई तो हॉस्पिटल की उम्मीद लगाये थे।

ठाकुर साहब तो अभी एजुकेशन लोन ही चुका रहे थे, अपनी पहली बेटी की शादी में अच्छा खासा खर्च कर चुके थे। सब तय हो जाता बात वहीं अटक जाती थी। अबकी बार तो अवनी की माँ ने मन्नत भी मानी थी।

तय समय पर दिल्ली वाले आए, अवनी को पसंद किया लेन देन तय किया, 13 लाख में बात पक्की हो गई, अवनी ने कहा “ये क्या किया पापा, कहाँ से आएगा इतना पैसा..? मुझे नहीं करनी शादी, आप लोगो का ख्याल कौन रखेगा…??”

ठाकुर साहब ने बोला “अरे तो इसी शहर में तो हो रख लेना ख्याल”! कहीं ऐसा भी होता है उम्र भर घर नहीं बिठा सकते”।

अवनी जानती थी, उसकी बहन भी तो उसी शहर में थी पर साल में एक बार आ जाये बहुत होता था।

घर में तैयारियाँ शुरू हो गई। 2 महीने में शादी थी, अवनी से न रहा गया तो रोहित से पूछ ही बैठी “मेरे माँ पापा का ध्यान मुझे ही रखना है, सोच के शादी करना”।

रोहित ने बोला “हाँ हाँ क्यों नहीं”। रोहित की बात सुन कर तसल्ली मिल गई अवनी को।

शादी के दिन पास आ रहे थे, और ठाकुर साहब पैसा जुटाने में लगे थे, गाओं की ज़मीन बिकने का नाम नहीं ले रही थी। आखिर शादी वाला दिन भी आ गया, बारात आई रस्मे शुरू हुई और ठाकुर साहब का दिल बैठा जा रहा था, रोहित के पापा से अलग ले जाकर परेशानी जाहिर की, बोला “आप ज़मीन के कागज़ ले लीजिये, मेरे पास 5 लाख से ज्यादा कैश नहीं है, ये ज़मीन पूरे 12 लाख की है”।

बस फिर क्या था रोहित के पापा ने चिल्लाना शुरू किया ” वाह बंजर ज़मीन दे कर लड़का चाहिए, धोखा किसी और को दीजियेगा हमने बहुत देखे ये तमाशे “!!

धीरे धीरे बात सबको पता चली और अवनी तक भी पहुंची, और अवनी ने वही किया जो एक पढ़ी लिखी डॉक्टर बेटी को करना चाहिए, खुद आ कर बोली स्टेज पर “सुनिये पूरी ठाकुर बिरादरी, “मैं ये बारात लौटा रही हूँ इनके बेटे की कीमत नहीं है हमारे पास, सिर्फ 13 लाख में बिकेंगे जिसको खरीद्ना हो अभी खरीद सकता है, और हाँ हमारे यहाँ कोई रिश्ता लेकर ना आए क्योंकि मेरे माँ बाप का मैं ही बेटा हूँ मैं ही बेटी, किसी को ऐतराज हो तो बताये…??”

कुछ लोग अवनी की तारीफ करते, कुछ लोग पागल कहते, कुछ लोग हँसी उड़ाते वापस चले गए”। “ये वो मूक समाज है, जो सिर्फ कहीं शामिल होता है तमाशा देखने के लिए, और खड़ा होता है सिर्फ ऊँगली उठाने के लिए ….वो समाज जिसका डर 29 साल की बेटी के बाप को होता है, वो समाज जिसकी वजह से एक बाप औकात से बाहर दहेज देने को तैयार हो जाता है….वो समाज जिसकी वजह से एक डॉक्टर बेटी भी बोझ लगने लगती है”

क्यों कोई अपनी बेटी को डॉक्टर बनाये, लोन भी चुकाये, और अच्छे दामाद के लिए बिक भी जाए…? क्यों नहीं बेटी बोझ लगे…? पढ़ाओ भी दहेज भी दो..??

सिर्फ फ़ेसबुक डीपी बदल कर “मेरी बेटी मेरा अभिमान” लिखने से बाप के कांधे का बोझ कम होगा क्या..?

जो आज वक़्त के साथ दोगुना हो गया है. पता नहीं क्यों हर वर्ग की लड़की और उसके माँ बाप, ये सब झेलने को मजबूर हैं, दहेज प्रथा का विरोध सिर्फ मौखिक जुमला बन के रह गया है। ज़रूरत है एक सख्त कानून की, और अवनी जैसी बेटिओं की..!! मैं जानती हूँ अवनी अपना आसमान खुद बनाएगी, और औरों को भी उड़ने का हौसला देगी।

Suna suna dil ka mujhe nagar lagta hai

suunā suunā dil kā mujhe nagar lagtā hai
apne saa.e se bhī aaj to Dar lagtā hai

baañT rahā hai dāman dāman merī chāhat
apnā dil bhī kisī saḳhī kā dar lagtā hai

mahrūmī ne jahāñ baserā DhūñD liyā hai
mujh ko to vo ghar bhī apnā ghar lagtā hai

merī barbādī meñ hissa hai apnoñ kā
mumkin hai ye baat ġhalat ho par lagtā hai

‘josh’ huuñ maiñ dīvane-pan kī us manzil meñ
jahāñ raqīb bhī apnā nāma-bar lagtā hai

Humayun’s Tomb – The Garden Of Tombs

A world heritage site under UNESCO, Humayun’s Tomb was built in 1570 by Humayun’s wife Haji Begum. It is unarguably one of the most amazing works of Mughal Architecture to which Taj Mahal owes its design.

Not only the grave of the Mughal Emperor, Humayun, but this tomb also secures the graves of Bega Begum, Dara Shikoh, Hamida Begum, along with other significant members of the Mughals. The tomb is made of red sandstone and white marbles and it looks serene and beautiful even after so many years.

Entry fee: INR 10 for domestic and SAARC Visitors, INR 250 for others

Opening hours: Daily, up till sunset. Best viewed in the morning or a full moon evening.

Must visit: If on Thursday, walk to the Dargah of Nizam-ud-din Auliya for a spiritual qawwali evening

Tip: This place is often included in the Delhi guided tours with a blue bus.