Author Archives: kanika chauhan

‘अमर विश्वास’ एक ऐसा नाम जिसे मिले वर्षों बीत गए

मेरी बेटी की शादी थी और मैं कुछ दिनों की छुट्टी ले कर शादी के तमाम इंतजाम को देख रहा था. उस दिन सफर से लौट कर मैं घर आया तो पत्नी ने आ कर एक लिफाफा मुझे पकड़ा दिया. लिफाफा अनजाना था लेकिन प्रेषक का नाम देख कर मुझे एक आश्चर्यमिश्रित जिज्ञासा हुई. ‘अमर विश्वास’ एक ऐसा नाम जिसे

Read more

हमसफर

बस बहुत हुआ अब और नहीं.. गुस्से मे आई निशा ने टेबल पर रखी फोटो उठाकर फोन लगाया.. दो रिंग्स के बाद आवाज आई-हैलो.. निशा- जी मेरी बात मोहनजी से हो रही है .. जी ..कहिए वहां से आवाज आई .. निशा- देखिए मिस्टर आप जिस लड़की को कल देखने आ रहे है मैं वहीं लड़की निशा बोल रही हूं

Read more

संस्कृति का सूचक है राजस्थानी पहनावा…

राजस्थान देश भर में अपनी संस्कृति तथा प्राकृतिक विविधता के लिए जाना जाता है। राजस्थान के रीति- रिवाज, यहां के लोगों का पहनावा तथा भाषा सादगी के साथ- साथ अपनेपन का भी अहसास कराती है। राजस्थान में लोगों को अपनी एकता के लिए जाना जाता है। राजस्थान के लोगों का रहन-सहन सादा और सहज है। राजस्थान के लोग जीवटवाले तथा ऊर्जावन होते हैं साथ ही जीवन के हर पल का आनंद उठाते हैं। राजस्थानी महिलाएं अपनी सुंदरता के लिए मशहूर हैं।

Read more

प्राकृतिक खूबसूरती से भरपूर है महाराष्ट्र…

अगर आपकी भी तमन्ना है सारी दुनिया की सैर करने की तो हम आपको हर खूबसूरत जगह के बारे में बताएगें बस आप हमारे लेख को पढ़ते जाए और आपने शौक को पूरा करते जाए। भारत के पश्चिम की खूबसूरती को और घुमने का शौक भी रखते है तो महाराष्ट्र से और अच्छा क्या होगा। महाराष्ट्र की यात्रा किसी भी सैलानी को भारत के पश्चिमी भाग की खूबसूरती को जानने का मौका देती है।

Read more

राजपूताने की शान- कुम्भलगढ़ का किला

आपने विश्व की सबसे लम्बी दीवार “द ग्रेट वॉल ऑफ़ चाइना” के बारे में तो सुना ही होगा पर क्या आपने विश्व कि दूसरी सबसे लम्बी दीवार के बारे में सुना है, देखा है या पढ़ा है जो कि हमारे भारत में ही स्थित है? अगर नहीं तो आइए हम आपको बताते है…..

Read more

खेल तो बस नजरिए का है!

अनीता चुपचाप राधा कि बाते सुन रही थी..उसके पास राधा के समझदारी और नजरिये का कोई जवाब नहीं था..”सही कह रही है राधा, मुझे भी अपना नजरिया बदल कर देखना होगा अब’ अनीता ने कहा तो दोनों ठहाके लगा कर हंस पड़ी…

Read more
« Older Entries