पुरुष से पिता बनने तक सफर

पत्नी जब स्वयं माँ बनने का समाचार सुनाये और वो खबर सुन, आँखों में से खुशी के आंसू टप-टप गिरने लगे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता है….”

नर्स द्वारा कपडे में लिपटा कुछ पाउण्ड का दिया जीव, जवाबदारी का प्रचण्ड बोझ का अहसास कराये तब आदमी, पुरुष से पिता बनता है…

रात – आधी रात, जागकर पत्नी के साथ, बेबी का डायपर बदलता है, और बच्चे को कमरे में उठा कर घूमता है, उसे चुप कराता है, पत्नी को कहता है तुम सो जाओ, मैं इसे सुला दूँगा। तब आदमी, पुरुष से, पिता बनता हैं… ”

मित्रों के साथ घूमना, पार्टी करना जब नीरस लगने लगे और पैर घर की तरफ बरबस दौड़ लगाये तब आदमी,पुरुष से पिता बनता हैं…”

हमने कभी लाईन में खड़ा होना नहीं सिखा, हमेशा ब्लैक में टिकट लेने वाला, बच्चे के स्कूल Admission का फॉर्म लेने के लिए पूरी ईमानदारी से सुबह 4 बजे लाईन में खड़ा होने लगे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता हैं….”

जिसे सुबह उठाते साक्षात कुम्भकरण की याद आती हो और वो जब रात को बार-बार उठ कर ये देखने लगे की मेरा हाथ या पैर कही बच्चे के ऊपर तो नहीं आ गया और सोने में पूरी सावधानी रखने लगे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता हैं…”

असलियत में एक ही थप्पड़ से सामने वाले को चारो खाने चित करने वाला, जब बच्चे के साथ झूठ मूठ की fighting में बच्चे की नाजुक थप्पड़ से जमीन पर गिरने लगे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता हैं…”

खुद भले ही कम पढ़ा या अनपढ़ हो, काम से घर आकर बच्चों को ” पढ़ाई बराबर करना, होमवर्क पूरा किया या नहीं” बड़ी ही गंभीरता से कहे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता हैं…”

खुद ही की कल की मेहनत पर ऐश करने वाला, अचानक बच्चों के आने वाले कल के लिए आज compromises करने लगे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता हैं…”

ऑफिस का बॉस, सबको आदेश देने वाला, स्कूल की पेरेंट्स मीटिंग में क्लास टीचर के सामने डरा सहमा सा, कान में तेल डाला हो ऐसे उनकी हर INSTRUCTION ध्यान से सुनने लगे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता है…”

खुद की पदोन्नति से भी ज्यादा बच्चे की स्कूल की सादी यूनिट टेस्ट की ज्यादा चिंता करने लगे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता है…”

खुद के जन्मदिन का उत्साह से ज्यादा बच्चों के Birthday पार्टी की तैयारी में मग्न रहे तब आदमी, पुरुष से पिता बनाता है…”

हमेशा अच्छी अच्छी गाडियों में घुमाने वाला, जब बच्चे की साइकिल की सीट पकड़ कर उसके पीछे भागने में खुश होने लगे तब आदमी,पुरुष से पिता बनता है…”

खुद ने देखी दुनिया, और खुद ने की अगणित भूले बच्चे ना करे, इसलिए उन्हें टोकने की शुरुआत करे तब आदमी, पुरुष से पिता बनता है…”

बच्चों को कॉलेज में प्रवेश के लिए, किसी भी तरह पैसे ला कर अथवा बच्चों के खातिर वर्चस्व वाले व्यक्ति के सामने दोनों हाथ जोड़े तब आदमी, पुरुष से पिता बनता है…”

आपका समय अलग था, अब ज़माना बदल गया है, आपको कुछ मालूम नहीं” This is generation gap …” ये शब्द खुद ने कभी बोला ये याद आये और मन ही मन बाबूजी को याद कर माफी माँगने लगे तब आदमी,पुरुष से पिता बनता है…”

लड़का बाहर चला जाएगा, लड़की ससुराल, ये खबर होने के बावजूद, उनके लिए सतत प्रयत्नशील रहे तब आदमी,पुरुष से पिता बनता है…”

बच्चों को बड़ा करते-करते कब बुढापा आ गया, इस पर ध्यान ही नहीं जाता, और जब ध्यान आता है तब उसका कोइ अर्थ नहीं रहता तब आदमी, पुरुष से पिता बनता है…”

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s