अगर Relationship में होगा थोड़ा SPACE तो गुलजार होगी ज़िंदगी

मेरा उसके बिना दिल नहीं लगता, मैं उसके बिना रहने की सोच भी नहीं सकती.. सोचूं भी तो सांसे रूकने लगती हैं, मैं उससे बहुत प्यार करती हूं। अरे.. अरे…रुकिये तो जरा! ये सब सुनने में कितना अच्छा लगता है लेकिन सिर्फ फिल्मों में। जिनते अच्छे ये डायलॉग्स फिल्मों में लगते हैं उतने असल ज़िंदही में नहीं। अगर आप अपने रिलेशनशिप को बहुत गहरा बनाने की कोशिश में कुछ ऐसे ही हालात में आ गए हैं तो थोड़ा संभलनें की जरूरत है, क्योंकि इससे आपके रिश्ते को नुकसान हो सकता है। प्यार बहुत खूबसूरत है, उसे हर वक्त थोपकर बोझिल न बनायें थोड़ा Space रखिए।

ज़िंदगी और गुलज़ार लगने लगेगी अगर आप अपने पार्टनर को थोड़ा-सा space भी  देने लगें। कई बार जानबूझकर नहीं तो अनजाने में ही सही हम अपने पार्टनर को स्पेस नहीं देते। और इस आदत को हम बेशूमार प्यार समझते हैं पर लड़के इससे खीझ जाते हैं और एक मोड़ पर आकर उन्हें लगने लगता है कि ये रिश्ता अब उनसे नहीं संभल रहा है।

ऐसा ही लड़कियों के साथ भी होता है जब लड़के प्यार के नाम पर Over-Possessive होने लगते हैं और जासूसी करने लगते हैं। ऐसे हालात किसी भी रिश्ते के लिए खतरनाक हैं। आज हम बात करेंगे उन छोटी-छोटी ग़लतियों की जो अकसर प्यार के नाम पर हमसे हो जाती हैं…

काम काम और काम! उफ़्फ़!

ये शिकायत लोगों को अक्सर होती है कि उनके पार्टनर को काम से ही फ़ुर्सत नहीं। पर बिना काम के भी तो काम नहीं चलता न दोस्त! इसलिए हर दूसरे दिन ऐसी बातों पर नाराज़ होना छोड़ दें। अगर वो आपको गुडनाइट और गुड मॉर्निंग मैसेज नहीं करता है, तो इसे महाभारत का Issue न बनायें क्योंकि बड़े-बड़े देशों में छोटी-मोटी बातें होती रहती हैं।

फोन चेक करना

आपको आदत है हमेशा उसका फोन चेक करने की और भी बहुत ज्यादा। और हद तो तब हो जाती है जब आप ऐसी बात करते हैं कि–तुम्हें मुझपर भरोसा नहीं है। कभी-कभार फ़ोन देख लेने से कोई फ़र्क नहीं पड़ना चाहिए लेकिन इसे आदत बना लेना ग़लत है। आप ने रिश्ता चुना है, जासूसी नहीं।

Close Friend कहीं लड़की तो नहीं…

अगर कोई लड़की Close Friend हुई तो फिर लड़ाई तो होनी है बॉस। आप बहुत प्रोग्रेसिव बनने की कोशिश करेंगी तो लड़ने के बजाय मुंह बनाकर बैठी रहेंगी। आप शाहरुख को फ़ॉलो करते हुए थोड़ा ही सही लेकिन मानने लगती हैं कि एक लड़का और एक लड़की कभी दोस्त नहीं हो सकते।

पर ये 21वीं सदी है मेरी जान! यहां कुछ भी हो सकता है, सब आपको ही करना है। लड़के ऐसे मामलों में ज़रूरत से ज़्यादा सख़्ती दिखाते हैं– उस लड़के से बात क्यों की? उसे कबसे जानती हो? बहस में ज़रा-सी नाराज़गी आती है फिर लांछन लगाने का सिलसिला शुरू हो जाता है, इसे Avoid करें।

मुझे बताया क्यों नहीं?

ये आदत लड़कियों से ज़्यादा लड़कों में होती है। उन्हें आपकी सारी Detailing चाहिए, फिर आपको भी लगता है कि उसे चाहिए तो आपको क्यों नहीं। ऐसे में कोई बात अगर मिस हो जाए तो तांडव तय है। फिर वो रिलेशनशिप से ज़्यादा ग़ुलामी हो जाती है जहां हर लड़की-लड़का अपने पार्टनर से सबकुछ बताए और पूछता रहे, परमिशन लेता रहे।

वीकेंड प्लानिंग   

आप हमेशा हैप्पी वीकेंड का ख्वाब देखती है जिसके लिए आप दोनों का वीकेंड अपने हिसाब से करती हैं। वो हर बार शायद आपके साथ चला भी आता होगा ताकि आप खुश रहें। पर ज़रा सोचें, आपके अलावा भी उसके आसपास लोग हैं, पूरी दुनिया से कटकर नहीं रहा जा सकता। आप ‘हमारा’ वीकेंड प्लान करते हुए उसके वीकेंड Plans पर ताला लगा देती हैं।

अगर आप में भी हैं ये आदतें तो इनसे जल्द ही किनारा कर लें ताकि आपका रिश्ता बने रहे और उसमें बेशुमार प्यार और कुछ भी नहीं!

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s